You are currently viewing कुशीनगर:ग्राम प्रधान और ग्राम विकास सचिव के लापरवाही से ग्रामीण दुषित जल पीने को मजबूर

कसया ,कुशीनगर
कसया तहसील अन्तर्गत ग्राम सभा सखवनिया खुर्द के ग्रामीण आज 6 माह से ग्राम प्रधान और ग्राम विकास सचिव के लापरवाही के चलते दूषित जल पीने को मजबूर है, जिससे ग्रामीणों में काफी रोष है,
बताते चले कि आज से लगभग पांच साल पहले 1 करोड़ 66 लाख की लागत से पानी टंकी का निर्माण हुआ, जिससे दो ग्राम सभाओं में जल के आपूर्ति होती थी, लेकिन 6 माह पहले जलकल विभाग ने पानी की आपूर्ति ग्राम सभा के हवाले कर दिया,जिसके बाद ग्राम प्रधान सखवानिया खुर्द द्वारा जल आपूर्ति हेतु प्रति कनेक्शन 50 रुपया चार्ज लगा दिया गया, जिसको ग्रामीण देने असमर्थ रहे, जिसके बाद पानी की आपूर्ति पूरी तरह से बंद कर दिया गया, आज जहां पूरा विश्व कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है और लोगों को सरकार साफ सफाई और शुद्ध भोजन पानी करने का सलाह दे रही है, सारे लोग गरीबों की मदद करने में लगे हैं तो दूसरी ओर सखावनिया खुर्द में छिड़काव की बात तो छोड़िए , शुद्ध पेय जल भी ग्राम सभा की तरफ से रोक दिया गया है, ग्रामीण सीताराम सिंह , हकीम अंसारी, पौहरी प्रसाद , हारून अंसारी, पारस नाथ सिंह ,उदयभान दूबे ,सूरज भारती व सैकड़ों ग्रामीणों का कहना है कि अगर इस कोरॉना जैसे महामारी में जल आपूर्ति नहीं हुई तो हम आंदोलन करने पर मजबूर होंगे। अब सवाल यह उठता है कि करोड़ों की लागत से बनी पानी टंकी कुछ रुपयों के लिए कब तक अधिकारियों का मुंह देखेगी ,और कब ग्रामीणों को शुद्ध पेय जल आपूर्ति होगी।