कौशांबी:विधवा को जय माल डालकर युवक ने बनाया संगिनी


रिपोर्ट-बंशीलाल
कौशाम्बी: मुख्यालय के एक मंदिर परिसर में एक विधवा की शादी देवी देवताओं को साक्षी मानकर लॉक डाउन के नियमों का पालन करते हुए संपन्न हुई सामाजिक तमाम कुर्तियों को दरकिनार कर एक युवक ने विधवा के साथ जीवन निर्वाह करने का संकल्प लिया सदर कोतवाली क्षेत्र के शमशाबाद निवासी सीता देवी पत्नी स्वर्गीय रामचंद्र बीते करीब 11 साल से विधवा के रूप में जीवन निर्वाह किया वह 10 साल के पुत्र हर्षित वह 12 साल की पुत्री दिव्या के साथ रह रही थी। पुत्र व पुत्री की पढ़ाई लिखाई के अलावा तमाम तरह के खर्च चलाना उसके लिए लोहे के चने चबाने के बराबर साबित हो रहा था ।उसने शादी करने का प्रस्ताव एक युवक से पेश किया युवक ने परिवार व समाज के लोगों की सहमति लेकर शुक्रवार को मुख्यालय स्थित एक मंदिर परिसर में देवी-देवताओं को साक्षी मानकर साथ जीने मरने का संकल्प लिया वायरस के चलते दोनों ने मुंह में मास्क लगाकर उचित दूरी बनाकर जाए मार डाला और युवक ने उसके मांग मे सिंदूर भरकर अपनी संगिनी बना लिया