फतेहपुर:धाता कस्बे में बने पंचायत भवन बना तबेला और भूसा रखने का अड्डा, पंचायत भवन के बगल में खाली पड़ी सरकारी जमीन पर भू माफियाओं द्वारा लॉक डाउन के आड़ में शुरू है मकान का अवैध निर्माण

पूरा मामला जनपद फतेहपुर के तहसील खागा थाना धाता विकासखंड धाता के लेंडहापर मोहल्ले में बने पंचायत घर का है जिसका निर्माण वर्ष 1986-87 में ग्राम प्रधान बछराज नगरहा के कार्यकाल में जनता की समस्याओं को सुनने के लिए बनवाया गया था

जबकि आजकल यह पंचायत भवन गाय और भूसा रखने का अड्डा बन गया है, इससे साफ अंदाज लगाया जा सकता है कि किस तरह से सरकारी धन से बने पंचायत घर का इस्तेमाल जानवरों को पालने और भूसा रखने के लिए किया जाता है, यहां पर हर समय तालाब बंद रहता है, यहां ना तो कोई पंचायत मित्र बैठता है और ना तो जनता की कोई बात सुनी जाती है, अगर इस पंचायत भवन में पंचायत संबंधी कोई कार्य होता तो शायद आज यहां पर यह कब्जा नहीं होता

आज दिनांक 15 अप्रैल 2020 दिन बुधवार को हमारी यूएफ टी News24 की टीम वहां से गुजरी तो देखा की पंचायत भवन ठीक बगल से लगी सरकारी जमीन पर कुछ दबंगों द्वारा लॉक डाउन का उल्लंघन कर अवैध मकान का निर्माण कराया जा रहा था वहीं पर उपस्थित नंदकिशोर से पूछताछ करने पर पता चला कि यह पट्टे की जमीन है जिसे नंदकिशोर और उसके भाई छेदनू ने सुंदरलाल से खरीदा है

जब इसकी जानकारी राजस्व टीम के धाता हलके के लेखपाल राजकुमार लेखपाल और गंगा सिंह लेखपाल ने बताया की पट्टा नंबर 2239 में 7 लोगों का कब्जा है जिसका मुकदमा न्यायालय में पंजीकृत है जिसमें लगभग आधा आधा विश्वा जमीन आ रही है और यह जो निर्माण हो रहा है यह लगभग 2 विश्वा में है जो कि पूर्ण रूप से अवैध है मौके का फायदा उठाकर यह लोग अपना उल्लू सीधा करने में लगे हुए हैं

एक तरफ पूरा संसार कोरोना जैसी खतरनाक संक्रामक वायरस से जूझ रहा है सरकार के द्वारा वहीं सभी कार्यों को विराम दे दिया गया है स्थगित कर दिया गया है वही दूसरी तरफ यह लोग लॉक डाउन का उल्लंघन कर सरकारी जमीन पर अपना कब्जा करने में लगे हैं क्या ऐसे लोगों के खिलाफ हो पाएगी कार्यवाही यह राजस्व विभाग के लिए एक बड़ा सवाल है ?

फतेहपुर से विशेष संवाददाता राम मणि पांडे की खास रिपोर्ट