लाकडाउन के वजह से शराब के कालाबाजारी, दाम चार गुना

  • कालाबाजारी करते पकड़े गए युवक को पुलिस ने छोड़ा

पड़रौना। लॉक डाउन के दौरान पूरे प्रदेश में नशीली वस्तुओं का कारोबार भी चोरी छिपे चल रहा है। इस कारोबार में पुलिस की संलिप्तता भी सुनी जा रही हैं । शराब की जमकर कालाबाजारी कर व्यापारी दोगुनी कीमत पर बेच रहे हैं। इसके अलावा शराब दुकान बंद होने की वजह से महुए की देशी और कच्ची शराब का कारोबार भी फैल रहा है।

                   कसया थाना क्षेत्र के कई हिस्सों में सरकार की सख्ती का असर नहीं दिख रहा है और अवैध शराब दाम के मामलें में रिकॉर्ड तोड़ रहा हैं। जानकार बताते हैं कि कसया कस्बे में पुलिस के गठजोड़ से शराब की कालाबाजारी खूब फल फूल रहा है। बीते दो अप्रैल को भी कस्बा इंचार्ज ज्योति सिंह को कुछ लोगों ने अंग्रजी शराब को चार गुने दाम पर कालाबजारी करने की सूचना दिया। कस्बा इंचार्ज के द्वारा मौके पर न पहुचने की स्थिति में काफी देर बाद लोगों ने हाईवे चौकी इंचार्ज नागेंद्र गौड़ को सूचना दिया जिस पहुँचे और एक व्यक्ति को शाम लगभग 5 बजे दो बोरी अंग्रेजी शराब के साथ पकड़ कर थाने ले गया। बल्कि घटना की स्थान उपनिरीक्षक ज्योति सिंह का था। दो बोरी शराब की कालाबाज़ारी करने पर पकड़े गए युवक को लेकर मीडिया ने सोशल साइट्स पर ब्रेकिंग भी चलाया थाने पर काफी चहल पहल के बाद युवक के तरफ से बिचौलियों ने हाथ डाला और थाने से छुड़ा ले गया। जबकी सूत्रों का कहना हैं कि गिरफ्तार युवक कस्बा इंचार्ज का करीबी था और इन्ही के रहम करम पर  शराब का कालाबाज़ारी कर रहा था। इस नाते मामलें को मैनेज कर छोड़ दिया गया, कुशीनगर जिले के शराब के कालाबाज़ारी का हब बन रहा कसया-पड़रौना बाईपास पर हल्का साहब के संरक्षण में यह कालाबाजारी फल फूल रहा है। शाम को 7 बजे के बाद कस्बे के इन स्थानों सहित कई अन्य ठिकानों पर शराब की कालाबाज़ारी करने वाले माफियाओं के पास खरीदारो को वहा तक जाने में काफी छूट दिया जा रहा है। जब इस संबंध में कसया पुलिस क्षेत्राधिकारी से बात करने का प्रयास किया गया तो फोन नहीं उठा।