लाकडाउन में कोटेदार की बेशर्मी, संकट में एक दर्जन परिवार का चूल्हा

  • सीएम के आदेश को धता बताते कोटेदार, आहत ग्रामीण
  • शैलेन्द्र उआदव

कुशीनगर। ज्ञात हो कि कसया तहसील क्षेत्र के धरनी छापर में कोटेदार द्वारा राशन वितरण में शनिवार को जम कर अनियमितता की गई कोटेदार के हनक और दबंगई से लोग पीड़ित दिखे।
            उक्त ग्रामीणों ने कोटेदार पर आरोप लगाया है कि 35 किलो राशन की जगह 33 किलो ही वितरण किया जा रहा है, जो गरीब लोग हैं जिनके पास कोई कार्ड नहीं है उनको राशन देने से वंचित रखा जा रहा है। जिनका राशन के सूची में नाम सम्लित करवाना हैं उनसे 500 रुपये अवैध वसूला जाता हैं। ग्रामीणों ने बताया कि कोटेदार द्वारा राशन वितरण में ऐसे कोई अनियमितता न हो जो कोटेदार नहीं करता हो।

उल्लेखनीय हैं कि देश कोरोना वायरस को लेकर जंग कर रहा हैं देश मे सम्पूर्ण लाकडाउन हैं, लाकडाउन में सक्षम लोग गरीब असहाय लोगों को खाने पीने की व्यवस्था कर मानवता का मिसाल पेश कर रहे हैं। लोग अपने घरों में इस महामारी से छुटकारा पाने के लिए दुआ और पूजा कर रहे हैं, लेकिन कसया तहसील क्षेत्र के धरनीछापर कोटेदार की बेशर्मी ने देश की संकट को पीछे छोड़ दिया। पैसे की हवस ने कोटेदार को इतना गिरा दिया कि उसने असहाय गरीब भूमिहीन राजकुमार,गिरिजा देवी,दरोगा प्रसाद,राजकुमार प्रसाद,मनेशरा खातून,शुभान अंसारी,बस्ती अंसारी आदि को कार्ड के अभाव मेंं राशन ही नहीं दिया बल्कि उक्त लोगों पर अपना हनक दिखाते हुए घर वापस लौटा दिया, जिसके बाद इस परिवार पर एक व्यक्त के भोजन की चिंता सताने लगी हैं। जबकी दरोगा प्रसाद से सूची में नाम जोड़ने के गांव के कोटेदार द्वारा बेधड़क 500 रुपये की घुस भी मांगा जा रहा है। कोरोना वायरस के दौर में जनता के लिए सबसे लोकप्रिय सीएम योगी आदित्यनाथ सख्ती बरत रहे हैं कि कोई भूखा न सोये सबको राशन मिले सीएम के आदेश को भी यह कोटेदार धता बता रहा हैं और साहेब अंसारी, हैदर अली ,बादली खाली, रियाज ,अब्दुल, मुन्ना ,मूसा बंटी आदि से दो-दो किलो राशन में कटौती कर डाला। ग्रामीणों ने आक्रोश व्याप्त कर विभागीय अधिकारी से कार्यवाई की मांग की हैं। डीएसओ कुशीनगर का कहना हैं कि मामला संज्ञान में नहीं हैम इस तरह की बात हैं तो मुकदमा दर्ज कराया जाएगा, इसकी जानकारी लोगों को उपजिलाधिकारी कसया को पहले ही देनी चाहिए था।