लाक डाउन के दौरान कुशीनगर में लुढ़का अपराध का ग्राफ

  • कोरोना के दौर में कुशीनगर जनपद का अपराध एक नजर में

शैलेंद्र यादव

पड़रौना। आज के दिनों में कोरोना का प्रभाव हर तरफ देखने को मिल रहा है। अपराध पर भी इसका असर  पड़ा है। क्राइम  का ग्राफ पूरे तौर पर कम हो हो गया है।लॉक डाउन के वजह से बड़े अपराध भी शून्य है,रोजमर्रा में होने वाली घटनाओं व दुर्घटनाओं में भी काफी कमी आयी है।
वायरस कोरोना का ख़ौफ़ व लॉक डाउन का प्रभाव इस कदर जिला कुशीनगर में प्रभावी है की जनपद के थानों में प्रत्येक दिन दर्ज होने वाली अभियोग की सख्या में काफी गिरावट आई है। हर हफ्ते में दर्ज होने वाले दर्जनो की सख्या में अभियोग अब दो से तीन के सख्या तक ही सीमित हो चली है।जबाब दारो के कहना है की ज्यादेतर मामले आपसी बिबाद के ही आते थे, जिसमे काफी कमी आयी है। इसके अलावे बड़े आपराधिक घटनाओं से सम्बंधित प्रकरण भी नही आ रहे है। मसलन अपराध नही होने के कारण थानों में जाँच के दबाव भी कम है।फल स्वरूप अन्य मामले में अधिकारी समय मिलने पर अपना केस डायरी  लिखने का काम कर रहे है। ताकि बिबेचना औऱ चार्ज सीट जल्द से जल्द सम्पन्न किया जा सके। वही दूसरी तरफ थानों के ज्यादेतर पुलिस कर्मियों कि डियूटी कानून ब्यवस्था को अनुपालन करने में लगाई गई है।