सोनौल:लाकडाउन के बाद नेपाल में फंसे भारतीय पर्यटकों की हुई वतन वापसी

सोनौली/महराजगंज। कोरोना वायरस जैसी महामारी के रोकथाम के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाकडाउन के चौथे दिन शनिवार को डीएम महराजगंज उज्जवल कुमार व एसपी महराजगंज रोहित सिंह सजवान एवं सीडीओ महराजगंज पवन अग्रवाल इंडो नेपाल के सोनौली बॉर्डर पहुंचे। जहां एक निजी गेस्ट हाउस में सिफ्ट नेपाल देश से आए भारतीय पर्यटकों का हाल जाना। तत्पश्चात कोरोना हेल्थ पोस्ट का निरीक्षण किया। पत्रकारों से बातचीत के दौरान डीएम ने बताया। कि बीते 22 मार्च से नेपाल देश में फंसे भारतीय पर्यटकों को शुक्रवार को शासन व प्रशासन की मदद से भारत वापस लाकर सोनौली के एक गेस्ट हाउस में शिफ्ट कर दिया गया है।

जैसा कि भारत सरकार द्वारा लाकडाउन घोषित करने के बाद नेपाल देश की सरकार ने भी लाकडाउन घोषित कर दिया। जिससे भारत से नेपाल घूमने गए करीब 43 पर्यटक नेपाल में फंस गए। जिस कारण पर्यटकों को खाने पीने व रहने के साथ कई प्रकार की दिक्कतें आ रही थी। लाकडाउन के दूसरे दिन सोनौली इंडोनेपाल सीमा पर पहुंचे। डीएम व एसपी ने हेल्थ पोस्ट का निरीक्षण किया था। जहां प्रेसवार्ता के दौरान पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल पर डीएम ने कहा था। कि फिलहाल जो पर्यटक जहां फसे हैं वही रहेंगे। नेपाल में फंसे भारतीय पर्यटकों को हो रही दिक्कतों को देखते हुए पत्रकारों ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया।

जिसे संज्ञान में लेते हुए डीएम ने उच्चाधिकारियों से वार्ता कर। एसडीएम नौतनवा जसधीर सिंह व सीओ नौतनवा राजू कुमार साव एवं एसएसबी सहायक सेनानायक संजय प्रसाद के नेतृत्व में सभी पर्यटकों को गुरुवार की शाम नेपाल से निकालकर उनकी जांच कराकर भारतीय सीमा सोनौली के एक गेस्ट हाउस में शिफ्ट कर दिया गया। जहां प्रशासन उनके रहने खाने की पूरी व्यवस्था कर रही है। बताया जा रहा है। कि पर्यटकों में तमिलनाडु, लखनऊ, गोरखपुर, मणिपुर, बड़हलगंज के करीब 43 लोग हैं। जिसमें पुरुष, महिलाएं समेत कुछ बच्चे भी शामिल हैं।