सोनौली:वतन वापसी के लिए नोमेंस लैंड पर बैठे 370 नेपाली नागरिकों को 36 घंटे बाद जिला प्रशासन ने किया शिफ्ट

सोनौली/महराजगंज। देश में फैले कोरोना वायरस जैसी महामारी को लेकर लॉकडाउन के कारण भारत देश के कई राज्यों से आए नेपाली नागरिकों को सोनौली सीमा के नोमैंस लैंड पर छत्तीस घंटे जूझने के बाद भी नेपाल सरकार ने उन्हें अपने देश में प्रवेश की अनुमति नहीं दी। जिसके बाद जिला प्रशासन द्वारा मंगलवार की देर शाम सभी नेपाली नागरिकों को रोडवेज बस के माध्यम से नौतनवा कस्बे के इंटर कालेज में बने वार्डों में सिफ्ट कर दिया गया। बताया जा रहा है कि सोनौली नेपाल सीमा पर पहुंचे लगभग 370 नेपाली नागरिकों के 36 घंटे बीत जाने के बाद जब नेपाल सरकार द्वारा नेपाल में प्रवेश लेने का कोई रुझान नहीं आया है। तो ऐसे में नेपाली नागरिकों के लिए बड़ी संकट उत्पन्न हो गई। लेकिन भारतीय प्रशासन और सोनौली क्षेत्र के लोगों ने मानवता दिखाते हुए नेपाली नागरिकों को भोजन कराया। और सोनौली बस डिपो पर आश्रय दिया। इस दौरान जिला प्रशासन द्वारा मंगलवार की देर शाम सभी नेपाली नागरिकों को रोडवेज बस के माध्यम से नौतनवा इंटर कॉलेज के में बने वार्डों में लाकर सिफ्ट कर दिया गया। प्रेसवार्ता के दैरान डीएम उज्जवल कुमार ने बताया। कि सभी नेपाली नागरिक 14 दिन तक क्वारंटीन में ही रहेंगे। इस दौरान उनके स्वास्थ्य की जांच कराई जाएगी। रहने और भोजन का भी इंतजाम किया जाएगा।