जनसेवा हेतु बाबा उमाकान्त जी महाराज द्वारा निःशुल्क 10 एम्बुलेंस, ऑक्सीजन प्लांट और हॉस्पिटल

जयगुरुदेव

10.06.2021
उज्जैन मध्य प्रदेश

जनसेवा हेतु बाबा उमाकान्त जी महाराज द्वारा निःशुल्क 10 एम्बुलेंस, ऑक्सीजन प्लांट और हॉस्पिटल।

बाबा जयगुरुदेव जी महाराज के 9वें वार्षिक भंडारे के अवसर पर उनके आध्यात्मिक उत्तराधिकारी उज्जैन के पूज्य संत बाबा उमाकान्त जी महाराज ने 8 जून 2021को भक्तों को सन्देश दिया कि प्रेमियों आपकी मेहनत और सहयोग से पूरे देश में संगतें निशुल्क भोजन भंडारे चला रही है। उज्जैन आश्रम परिसर में बने इस 5 मंजिला अस्पताल में तो कैश काउंटर ही नहीं बनवाया गया, पूर्णतया निःशुल्क है। अभी ऑक्सीजन प्लांट के अलावा हमने 10 एम्बुलेंस को मंगवाया है।

प्रेमियों! आप इस बात को समझो कि हर त्योहारों पर, भंडारा कार्यक्रम पर कोई नई चीज की घोषणा होती थी, कोई नई चीज की शुरुआत होती थी। फिर हमने सोचा ऑक्सीजन की दिक्कत है तो हमने ऑक्सीजन प्लांट लगवा दिया। लगाने वाले ने बताया सामान नहीं मिल रहा है थोड़ा सा लेट होगा तो पैसा चेक दे दिया गया है, लग जाएगा। एंबुलेंस की दिक्कत आई, मरीज पहुंच नहीं पा रहे हैं तो 10 एंबुलेंस के लिए आर्डर कर दिया। आज आने वाली थी लेकिन खबर आई कि उसकी एसी नहीं मिल पा रही। हमने कहा बगैर एसी के बेकार है, अगर दूर भी कहीं जाना पड़े तो मरीज उबल जाएगा। एसी लग जाएगी 15 तारीख तक आ जाएगी। अपने लिए या आश्रम के लिए थोड़ी मंगाया हूं। आप उसको ले जाओ और चलाओ। लेकिन प्रेमियों निशुल्क चलाना, निशुल्क चलेगा।

प्रेमियों भोजन भंडारा तो देश-विदेश खूब चला रहे हो, मैं सतुंष्ट हूँ।

महाराज जी ने कहा प्रेमियों! आप भोजन भंडारा तो खूब चला रहे हो। मैं तो पूरा संतुष्ट हूं। हमारे आश्रम वासी भी पीछे खूब चलाए। कोरोना लॉकडाउन में कई हजार क्विंटल राशन बांट दिया। आप लोग जो किसान हो, अपना अंश जो निकालते हो गल्ले में से, यहां भेजते हो सब बांट दिया। आप यह समझो खूब बांटें पैकेट। रोटियां भी खूब बांटी और कोरोना मरीजों को दूध भी खूब पिलाया गया।

9 साल में प्रेमियों, आपके सहयोग बहुत काम हुआ।

महाराज जी ने कहा कि देखो हॉस्पिटल बनवा दिया गया। 9 साल में कम काम नहीं हुआ। देखो यह जमीन इधर और भी खरीद ली गई। आपके सत्संग सुनने की जगह हो गई, आपके रहने की जगह प्रेमियों हो गई।

प्रेमियों कई जगह और कई प्रान्तों में आश्रम बना दिये गये, इनका करो उपयोग।

महाराज जी ने बताया कि इसके अलावा भी आपके कई जगह पर आश्रम बना दिए गए, कई प्रांतों में बना दिए गए। आप यह समझो सब जगह बना दिया गया। उनका आश्रम का आप उपयोग करो। आश्रम वहां चलता रहे जिस काम के लिए वह लिया है, वह काम वहां होता रहे।
जयगुरुदेव
परम् सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज उज्जैन(म.प्र)भारत