You are currently viewing कांग्रेस की नीति और नीयत में खोट का परिणाम है खनन विभाग में 1000 हजार करोड़ का घोटाला : कैलाश चौधरी

कांग्रेस की नीति और नीयत में खोट का परिणाम है खनन विभाग में 1000 हजार करोड़ का घोटाला : कैलाश चौधरी

केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार पर संसाधनों की लूट का आरोप लगाते हुए कहा कि चूना पत्थर को संगमरमर बताकर कांग्रेस सरकार ने किया 1000 करोड़ रुपये का खनन घोटाला

दिल्ली/जयपुर/बाड़मेर-जैसलमेर

राजस्थान में बढ़ते अपराध के कारण पहले से ही निशाने पर आई अशोक गहलोत की सरकार में अब 1000 करोड़ रुपये का खनन घोटाला सामने आया है। सोमवार को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री तथा बाड़मेर जैसलमेर सांसद कैलाश चौधरी ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में खनन विभाग द्वारा चूना पत्थर को संगमरमर बता कर 1000 करोड़ रुपये की खान सिर्फ 5 करोड़ रुपये में आवंटित कर दी गई, यह राज्य की कांग्रेस सरकार के संरक्षण के बिना कतई संभव नहीं था।

कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान संसाधनों की खरीद में हुए घोटाले के बाद अब सामने आया यह खनन घोटाला गहलोत सरकार की नीति और नीयत दोनों में खोट को दिखाता है। जनहित और विकास को छोड़ सरकार के नुमाइंदे सिर्फ अपनी जेब भरने में लगे हुए है। कैलाश चौधरी ने कहा कि इस घोटाले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए ताकि जनता के पैसों को लूटने वाले प्रत्येक व्यक्ति की सच्चाई जनता के सामने उजागर हो सके।

वित्तीय अनियिमितता पर लीपा-पोती करना चाहती है कांग्रेस : केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी के अनुसार प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार ने संसाधनों की लूट का खुला खेल खेलते हुए खनन विभाग में 1000 हजार करोड़ रुपए का घोटाला किया है। कैलाश चौधरी ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार खान आवंटन मामले में हुई गंभीर अनियिमितता पर लीपा-पोती करना चाहती है। उन्होंने कहा कि भाजपा अब इस सम्पूर्ण घोटाले की सीबीआई जैसी स्वतंत्र व उच्च स्तरीय जॉंच एजेंसी की जांच मांग कर रही है क्योंकि इतने बड़े घोटाले को अंजाम देने के लिए प्रशासन को राजनैतिक स्वीकृति प्राप्त थी। कृषि राज्यमंत्री चौधरी ने कहा कि प्रदेश की गहलोत सरकार सम्पूर्ण अनियमितता में राजनैतिक उत्तरदायित्व को स्वीकार करने से बचना चाहती है। समस्त प्रदेश भाजपा राज्य में कांग्रेस की गहलोत सरकार द्वारा खान के आवंटन में राजनैतिक एवं प्रशासनिक स्तर पर की गई धांधली की विस्तृत जांच की मांग करती है।