150 साल पुरानी मुसल गैर स्थगित,आमजन मे आक्रोश

सादड़ी पाली

150 साल पुरानी मुसल गैर स्थगित,आमजन मे आक्रोश

सादडी- मंगलवार को सादड़ी पुलिस थाने में आयोजित सीएलजी बैठक में देसूरी ब्लॉक एसडीएम राजलक्ष्मी गेहलोत ने कोरोना के फैलने का हवाला देते हुए शीतला माता मेला, मूसल गेर नृत्य एवं मुस्लिम शब्बे-ए-बारात पर अंकुश लगा शांतिपूर्ण तरीके से मनाने एवं राज्य सरकार द्वारा जारी कोरोना गाईड लाईन का पालन करने की अपील की थी। लेकिन बुधवार पाली जिले के एक समाचार पत्र में रायपुर मारवाड़ तहसील क्षेत्र में छपी खबर “हजरत हुसैन पीर का चार दिवसीय उर्स आज से” सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड कर रही है। खबर को लेकर लोगो में गहरा आक्रोश फैल रहा है। लोगो का कहना है कि एक ही जिले के दो ब्लॉक में प्रशासन के निर्णय में समन्वय क्यो नही दिख रहा है। सोशल मीडिया पर लोग इस बात पर तरह तरह की कमेंट व शेयर कर अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। प्रशासन के इस पक्ष पात पूर्ण रवैये के चलते हिन्दु समाज में आक्रोष गहराता जा रहा है।
पाली जिले के रायपुर में उर्स का आयोजन होगा तो क्या कोरोना अवकाश पर रहेगा…
वही सादङी की 150 साल पुरानी सांस्कृतिक धरोहर मूसल गेर के निकलने से कोरोना बढ जाता है?
क्या देसुरी उपखंड में ही हिन्दुओ को त्योहार मनाना या नही अब प्रशासन तय करेगा…
भाजपा जिला महामंत्री दिलीप सोनी एवं भाजपा नेता सुरेश रावल ने कहा कि प्रशासन हिंदुओ के त्योहार पर निरन्तर वज्रपात क्यो ढहा रहा है। जिला महामंत्री सोनी ने कहा कि निरन्तर हिंदुओ के त्यौहार पर प्रतिबंध सहन नहीं किया जाएगा।
भाजपा नेता सुरेश रावल ने कहा कि हिन्दू त्यौहारो के प्रति प्रशासन के रवैये में बदलाव नही आया तो शीघ्र एक बड़ा आंदोलन किया जाएगा।उल्लेखनीय हैं कि सादड़ी में मूसल गैर ऐतिहासिक धरोहर है। लेकिन इस बार उपखंड अधिकारी के द्वारा प्रतिबंध लगाने से आमजन में गहरा आक्रोश सोशल मीडिया पर विभिन्न टिप्पणियों के साथ फैल रहा है।

बयूरो रिपोर्ट ललित दवे

नॉट ये खबर फ़ोटो सहित अवश्य लगाए माली समाज के 150 साल पुरानी परंपरा का सवाल है।👏👏👏👏👏