You are currently viewing देसूरी। देसूरी थानां क्षेत्र के घाणेराव ग्राम पंचायत के आदिवासी इलाके गुडा भोप सिंह में एक आदिवासी प्रसूता हिरी पत्नी उमाराम भील की चिकित्सको की घोर लापरवाही के चलते मौत

देसूरी। देसूरी थानां क्षेत्र के घाणेराव ग्राम पंचायत के आदिवासी इलाके गुडा भोप सिंह में एक आदिवासी प्रसूता हिरी पत्नी उमाराम भील की चिकित्सको की घोर लापरवाही के चलते मौत

सादड़ी पाली
(ललित दवे )

समस्त भील आदिवासी समाज मे भयंकर रोष व्याप्त है।
गुडा भोप सिंह रहवासी आदिवासी भील समाज की प्रसूता हिरी भील जिसकी उम्र 25 वर्ष थी। मृतका के पति उमाराम भील ने चिकित्सक राजेन्द्र पुनमिया पर आरोप लगाते हुए बताया कि उसकी प्रसूता पत्नी के देररात दो बजे के करीब भयंकर पेट दर्द होने पर भील समाज के एक वार्ड पंच समेत पति उमाराम उसे सादडी चिकित्सालय में ले गया।
जहाँ ड्यूटी दे रहे कंपाउंडर ने बेड पर सुलाकर इतिश्री कर ली
चिकित्सक राजेन्द्र पुनमिया महिला कि गम्भीर स्थिति के बावजूद नही आया उपचार करने
रात भर प्रसूता दर्द से तड़पती महिला
आखिर चिकित्सक पुनमिया सवेरे आठ बजे प्रसूता को चेक करने आया। चेक करने के बाद उसकी पत्नी को पाली रेफर किया।
पाली चिकित्सालय में जाने के बाद वहां भी चिकित्सको ने एक दो ड्रिप चढ़ाकर इतिश्री कर ली।एव उसे जोधपुर रेफर कर लिया गया।
जोधपुर चिकित्सालय में चिकित्सकों ने उपचार शुरू किया मगर उपचार के दौरान प्रसूता की मौत हो गई।मृतका के पति ने चिकित्सक पर आरोप लगाते हुए बताया कि अगर सादडी चिकित्सालय में चिकित्सक ने उपचार कर लिया होता तो उसकी पत्नी की जान बच जाती।
मगर चिकित्सक की घोर लापरवाही के चलते उसकी पत्नी व बच्चे की मौत हो गई।
इस पुरे मामले को लेकर घाणेराव सरपंच चंद्रशेखर मेवाड़ा ने सीएमओ कार्यालय में महिला की मौत को लेकर सादडी चिकित्सक पुनमिया के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।