You are currently viewing बाबा जयगुरुदेव के मासिक भंडारा कार्यक्रम में आंतरिक नामयोग साधना, नामध्वनी और नामदान को प्रमुखता

जय गुरु देव

उज्जैन, मध्य प्रदेश
7.7.2021
बाबा उमाकान्त जी महाराज आश्रम, उज्जैन

बाबा जयगुरुदेव के मासिक भंडारा कार्यक्रम में आंतरिक नामयोग साधना, नामध्वनी और नामदान को प्रमुखता

विश्व विख्यात परम सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज ने 7 जुलाई 2021 को यूट्यूब चैनल जयगुरुदेवयूकेएम (Jaigurudev UKM) पर प्रसारित सतसंग में भक्तों का संदेश दिया कि इस भारत देश में जीवों को जगाने, अपने घर पहुंचाने के लिए सुख-शांति दिला करके जनम-मरण से छुटकारा दिलाने के लिए संतों का धरती पर पदार्पण बहुत दिनों से होता रहा है। उसी श्रंखला में अपने गुरु महाराज (बाबा जयगुरुदेव) भी एक विलक्षण महापुरुष के रूप में हमको-आपको मिले। इन्होंने बहुत से जीवों को जगाया, गंदे जीवो को भी धोया साफ किया और अपने घर जाने के लायक बना करके और बहुत से लोगों को घर पहुंचा भी दिया। काल के नियम के अनुसार उनके दिए हुए इस भौतिक शरीर को छोड़कर, दुनिया संसार को छोड़ कर के अपने धाम चले गए।

मासिक भंडारा कार्यक्रम में साधना, नामध्वनी और नामदान पर फोकस

अपने लोग अभी वार्षिक भंडारा मनाते थे। अब मासिक भंडारा मनाने की योजना बन गई है। और मासिक भंडारा हर महीना लोग इकट्ठा होकर के ध्यान-भजन करेंगे, गुरु के बताए रास्ते पर चलेंगे, गुरु के उपदेश को लोगों को सुनाएंगे, समझाएंगे, गुरु के वचन के अनुसार लोगों को प्रेरित करेंगे और कुछ भोजन-प्रसाद बना करके अपने लोगों में तो बांटेंगे ही, और लोगों में भी उस प्रसाद को पहुंचाएंगे। उसके अंतर्गत आप कुछ लोग बाहर से आ गए नामदान लेने के लिए तो नामदान आपको दिया जाएगा। जो आदेश गुरु का हुआ है जब तक यह शरीर चल रहा है तब तक आदेश के मुताबिक आपको नामदान मिलता रहेगा।

संसार छोड़ते समय धन-परिवार कुछ काम नहीं आता तो क्या काम आता है

उसके लिए आप लोगों को बता दो पुराने प्रेमियों आप समझाओ नए लोगों को। उन्हें अभी नामदान के बारे में मालूम ही नहीं है कि नाम दान क्या चीज होती है। वह तो उनके परिवार के लोग, माता-पिता दादा-दादी, पूर्वज इस चीज को मानते रहे, जानते रहे, उनको बताने वाले जिस तरह के लोग मिले उसी तरह से वह पूजा-पाठ में, भगवान के भाव-भक्ति में श्रद्धा अनुसार लगे हुए हैं। लेकिन जब यह असली चीज आप बताओ की असल है इससे आपको असल मिलेगा। अभी तो आप दुनिया को असल समझ लिए हो लेकिन जब वह असल मिलेगा जिसने दुनिया बनाया है और जब यह मालूम हो जाएगा यह संसार हमको छोड़कर के जाना पड़ेगा, यह धन दौलत रुपया पैसा पुत्र परिवार यह हमारे कोई काम नहीं आएगा तब असल की जानकारी आपको हो जाएगी। असली चीज तो हमेशा काम आएगी, नकला नोट नकला हीरा मोती नकला सोने चांदी काम नहीं आता है लेकिन असला जो होता है सब जगह काम आ जाता है। असल को तब पकड़ पाओगे जब असल का आप दर्शन कर पाओगे, उस मालिक का नाम को आप जानोगे, नामदान लोगों को दिलाओगे और नाम की लोग कमाई करेंगे।