You are currently viewing संसदीय क्षेत्र की सभी ढाणियों एवं बस्तियों तक बिजली पहुंचाने की मांग को लेकर कैलाश चौधरी की आरके सिंह से मुलाकात

संसदीय क्षेत्र की सभी ढाणियों एवं बस्तियों तक बिजली पहुंचाने की मांग को लेकर कैलाश चौधरी की आरके सिंह से मुलाकात

दिल्ली/बाड़मेर-जैसलमेर

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने शुक्रवार को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के 93वें स्थापना दिवस और पुरस्कार वितरण समारोह में भाग लिया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के प्रयासों से देश आयातक राष्ट्र के बजाय निर्यातक राष्ट्र के रूप में उभर कर सामने आया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में आईसीएआर के अनुसंधान कार्यों और कृषि क्षेत्र में तकनीक व नवाचारों को किसान के खेत तक पहुंचाने की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और कृषि राज्यमंत्री शोभा करंदलाजे सहित आईसीएआर एवं कृषि मंत्रालय के अधिकारीगण उपस्थित रहे।

कैलाश चौधरी ने की केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह से मुलाकात : केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने संसदीय क्षेत्र बाड़मेर-जैसलमेर की ग्रामीण ढाणियों के विद्युतीकरण के संबंध में केंद्रीय विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह से मुलाकात की। उर्जा मंत्री आरके सिंह ने कैलाश चौधरी को इस दिशा में शीघ्र ही ठोस निर्णय लेने के लिए आश्वस्त किया। बैठक के बाद कैलाश चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश भर में विद्युतीकरण का कार्य किया जा रहा है एवं दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना से गांव-गांव तक बिजली पहुंच रही है। देश के सभी ग्रामीण क्षेत्रों को बिजली से जोड़ने का काम तेजी से चल रहा है। केन्द्र और राज्य सरकार हर गांव में बिजली पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है। ज्यादातर गांव पूर्ण रूप से विद्युतीकृत हो चुके हैं, वहीं बचे सभी गांवों में निर्धारित समय सीमा के अंदर बिजली पहुंचा दिया जाएगा।

कांग्रेस का किसान विरोधी चेहरा उजागर हुआ : जालोर जिले के प्रतापुरा गांव में मुआवजे की मांग कर रहे किसानों के साथ प्रशासनिक अधिकारी द्वारा धक्का मुक्की और अपमानजनक व्यवहार को दुःखद और असहनीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने राज्य की अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि किसान हितैषी बनने की नौटंकी करने वाले कांग्रेस सरकार के बयानवीर इस घटनाक्रम पर क्या बयान देंगे? मुआवजा की वाजिब मांग करने पर किसानों के साथ उपखंड अधिकारी का यह दुर्व्यवहार दुर्भाग्यपूर्ण है, सरकार इस घटना पर संज्ञान लेकर दोषी अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। कैलाश चौधरी ने कहा कि कृषि और किसान देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। कृषि क्षेत्र ने कोरोना महामारी जैसी प्रतिकूल परिस्थितियों में भी देश की अर्थव्यवस्था में सकारात्मक योगदान दिया है। कृषि या किसान का कोई भी नुकसान देश का ही नुकसान होता है, ऐसे में किसानों के साथ यह दुर्व्यवहार कोई भी प्रदेशवासी बर्दाश्त नहीं करेगा।