You are currently viewing मिहींपुरवा ब्लॉक में गबन और भ्रस्टाचार का खेल

मिहींपुरवा ब्लॉक में गबन और भ्रस्टाचार का खेल

(जानकारी मिली है जाँच जारी है गलत साबित होने पर उचित और विधिक कार्यवाही की जाएगी ) डी सी मनरेगा

मिहींपुरवा / बहराइच जिले के सबसे बड़े विकास खंड में विकास कार्यों हेतु आवंटित धन में समय समय पर भ्रस्टाचार के मामले उजागर होते रहे है, इसी क्रम में मिहींपुरवा विकास खंड के ग्रामसभा कुड़वा में नव निर्वाचित प्रधान द्वारा बिना काम कराये ही मनरेगा मज़दूरी को गलत तरीके से निकालकर गबन किये जाने के गंभीर आरोप लगने लगे है।

बताते चलें की ग्राम रोज़गार सेवक द्वारा ग्राम पंचायत का कच्चा कार्य मज़दूरों के माध्यम से करवाया जाता है जिसमें तमाम मिटटी के कार्य जैसे चकरोड का पटान तालाब को गहरा करने साथ साथ सफाई करना, मेड़बंदी कराना , जल निकासी के लिए ड्रेन बनाना जिसमें महात्मा गाँधी रोजगार गारंटी अधिनियम के अंतर्गत गांव के जॉबकार्ड धारक मज़दूरों को रोज़गार दिया जाता है , ग्राम सभा कुड़वा के पंचायत मित्र गोमती प्रसाद द्वारा बताया गया की जब से नए प्रधान निर्वाचित हुए है तब से अभी तक उन्होंने मेरी सेवाएं नहीं ली उच्चाधिकारियों को लिखे गए शिकायती पत्र में इन्होने बताया की ग्राम सभा कुड़वा में नए सत्र में चार वर्क आई0 डी0 क्रमशः 1 wc /958486255823235463 कल्लू गौढ़ी उत्तर पश्चिम तालाब खुदाई , क्रमांक 2 LD /958486255823125466 कल्लू गौढ़ी पश्चिम दक्षिण में तालाब खुदाई क्रमांक 3 wc /958486255823125470 कल्लू गौढ़ी उत्तर पूरब तालाब खुदाई , इसके अलावा कुड़वा के बोटन पुरवा में देव स्थान से रोहित लाल के खेत तक भूमि विकास कार्य जिसकी वर्क आई0 डी0 क्रमांक 4 wc /958486255823397716 बनाई गई और भुगतान ले लिया गया मगर मौके पर कोई कार्य नहीं हुआ है साथ ही ग्राम प्रधान आनंद कुमार द्वारा उक्त सभी परियोजनाओं के प्रपत्रों पर पंचायत मित्र के फर्जी हस्ताक्षर कर लिए गये है। यदि वाक़ई में ऐसा है तो मिहींपुरवा ब्लॉक के खाते में नए सत्र का पहला भ्रस्टाचार साबित होगा जबकि अभी ग्रामीण सरकार के पांच वर्ष बाकी है।

अनुज जायसवाल बहराइच