You are currently viewing कांट्रेक्टर के द्वारा वसूला जा रहा मनमाना भाड़ा

कांट्रेक्टर के द्वारा वसूला जा रहा मनमाना भाड़ा

ब्यूरो खगड़िया-नैयर आलम

खगड़िया/यात्रियों को खगड़िया हो या महेश खुट जाना पड़े तो, कांट्रेक्टर के द्वारा भाड़ा वसूली मनमानी तरीके से किया जा रहा है। मालूम हो कि बेलदौर मुख्यालय से खगड़िया बस स्टैंड की दूरी करीब 50 किलोमीटर बताया जा रहा है। जिसमें खगड़िया जाने वाले यात्रियों से बस के कांट्रेक्टर अपने मनमानी तरीके से भाड़ा वसूली कर रहे हैं। यदि कोई भी सवारी बेलदौर बस स्टैंड से खगड़िया की ओर जाना है तो उनसे 80 रूपए लिया जाता है‌। यदि कोई भी सवारी बस स्टैंड से बाहर बस पर चढ़ते हैं तो उनसे खगड़िया बस स्टैंड तक जाने में करीब 120 रूपए लिया जाता है। यदि कोई भी यात्री बेलदौर बाजार का मिल जाता है तो उनसे कांट्रेक्टर के साथ तू तू मैं मैं हो जाती है। इसी कड़ी में बीते गुरुवार को बेलदौर गांव निवासी मोहन भगत अपने दुकान के आगे रितिक बस पर चढ़कर खगड़िया जा रहे थे‌। उनसे रितिक बस के कांट्रेक्टर बस स्टैंड में भाड़ा वसूली नहीं की उनसे भाड़ा वसूली रोहियामा गांव के समीप किया। उक्त यात्री से कांट्रेक्टर के द्वारा खगरिया के लिए करीब 120 रुपए की मांग किया, यात्री भाड़ा वसीली के नाम को सुनकर अचंभित रह गया। उन्होंने कांट्रेक्टर से कहां की बेलदौर से खगड़िया की दूरी करीब 50 किलोमीटर है, वहां से भाड़ा जिला पदाधिकारी के द्वारा निर्धारित किए गए 80 रूपए होता है। उक्त बात को सुनकर रितिक ट्रैवलर्स के कांट्रेक्टर कहते हैं कि मेरा मालिक रंगबाज है। तुम्हारे ऐसे ऐसे युवक को प्रत्येक दिन चलाते हैं, तुमको जहां जाना है जा सकते हो डीएम हो या एसपी मेरे मालिक के पास में रहता है। उक्त व्यक्ति से रितिक ट्रैवलर्स के कांट्रेक्टर उक्त व्यक्ति से 120 रूपए भाड़ा वसूली कर हि लिया। मालूम हो कि जिले के वरीय पदाधिकारी के द्वारा भाड़ा निर्धारित कर दिया गया, तब पर भी ग्रामीणों को आवाजाही करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। वही यात्रियों ने बताया कि जितना भी रितिक ट्रैवलर्स बेलदौर से खगड़िया की ओर जाती है तो उनके कांट्रेक्टर खलासी कहते हैं मेरा मालिक रंगबाज है। उक्त बात को सुनकर यात्री डर जाते हैं।