You are currently viewing कार्मिक विभाग झाँसी मंडल द्वारा आजोजित नयी भर्ति कार्यक्रम

(1)
कार्मिक विभाग झाँसी मंडल द्वारा आजोजित नयी भर्ति कार्यक्रम
कार्मिक विभाग झाँसी मंडल द्वारा पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी भर्ती कार्यक्रम के तहत नव नियुक्त हुए RRC अभ्यर्थियों को भर्ती किया गया I इस कार्यक्रम के अंतर्गत दिनांक 19.07.21 एवं 20.07.21 को चयनित हुए 16 RRC अभ्यर्थियों को नियुक्ति प्रदान गयी I इसी क्रम में वर्ष 2020-21 में कोविड महामारी के दौरान RRC के माध्यम से चयनित कुल 1364 अभ्यर्थियों तथा RRB के माध्यम से चयनित 979 अभ्यर्थियों को नियुक्ति प्रदान की गयी I इसके अतिरिक्त अनुकम्पा आधार पर चयनित हुए 215 लाभार्थियों को ग्रुप सी में नियुक्ति प्रदान की गयी I
इस अवसर पर राजेश गुप्ता वरि. मंडल कार्मिक अधिकारी द्वारा नव नियुक्त कर्मचारियों को शुभकामनाओं सहित मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय एवं अन्य विभागों एवं भारतीय रेलवे के बारे में परिचय दिया गया I इस दौरान अभ्यर्थियों को स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया से प्राप्त होने वाली सुविधाओं की जानकारी देने हेतु मुख्य प्रबंधक SBI, झाँसी श्रीमती दीप्ति मुखर्जी सहित श्री जे पी किलेदार SBI रेलवे स्टेशन ब्रांच झाँसी उपस्थित रहे I
यह कार्यक्रम मंडल रेल प्रबंधक संदीप माथुर के दिशा-निर्देशानुसार सम्पान हुआ I इस दैरान कोविड प्रोटोकाल का विशेष रूप से ध्यान रखा गया I
उक्त कार्यक्रम के आयोजन में मंडल कार्मिक अधिकारी श्री जी पी मिश्र तथा सहायक मंडल कार्मिक अधिकारी शैलेन्द्र श्रीवास्तव द्वारा विशेष योगदान प्रदान किया गया I
(2)
स्वतंत्रता संग्राम सेनानी चंद्रशेखर आज़ाद जी की जयन्ती पर आयोजित कार्यक्रम
झांसी मण्डल में आज दिनांक 23.07.21 को भारत को मिली आज़ादी के महानायक श्री चंद्रशेखर आज़ाद जी का जयन्ती समारोह मनाया गया । I इस अवसर पर मंडल कार्यालय कार्मिक शाखा में एक विचार गोष्ठी आयोजीय की गयी, जिसमें श्री चंद्रशेखर आज़ाद जी के जीवन पर प्रकाश डाला गया इस दौरान आज़ादी के आन्दोलन में श्री आज़ाद जी का अतुल्य योगदान व आहुती से जुड़े विचार साझा किये गए I
इस अवसर पर कर्मचारियों के ज्ञानवर्धन हेतु एक प्रश्नोतरी एवं वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया I
इस अवसर पर वरि. मंडल कार्मिक अधिकारी श्री राजेश गुप्ता, मंडल कार्मिक अधिकारी जी पी मिश्र एवं सहायक कार्मिक अधिकारी शैलेन्द्र श्रीवास्तव सहित अन्य कर्मचारी उपस्थित रहे I