You are currently viewing कारगिल विजय दिवस पर बोले कैलाश चौधरी : सेना और शहीदों के सम्मान के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है मोदी सरकार

कारगिल विजय दिवस पर बोले कैलाश चौधरी : सेना और शहीदों के सम्मान के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है मोदी सरकार

केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कारगिल विजय दिवस पर वीडियो संदेश में देश की रक्षार्थ अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले अमर शहीदों के बलिदान किया नमन, कहा- सीमा पर तैनात हमारे सैनिक तपती धूप और कड़कड़ाती ठंड में देश की रक्षा के लिए संकल्पबद्ध

दिल्ली/जयपुर

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने सोमवार को भारतीय सेना के शौर्य के प्रतीक ‘कारगिल विजय दिवस’ की सभी देशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी। शुभकामना संदेश में कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि इस जंग में देश को विजयश्री दिलाने वाले सभी जांबाज वीर शहीदों को कारगिल विजय दिवस की 22वीं वर्षगांठ पर सादर नमन। साल 1999 के कारगिल युद्ध में भारतीय सैनिकों नेे अदम्य शौर्य और वीरता का परिचय देते हुए पाकिस्तान को धूल चटा दी थी। इस युद्व में भारतीय सेना ने पाकिस्तान के 3 हजार सैनिकों को मार गिराया था। यह युद्ध 18 हजार फीट की ऊंचाई पर लड़ा गया था और 60 दिनों तक चला। अंततः 26 जुलाई 1999 को पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी और भारत ने युद्ध में विजय पताका फहराई।

कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि मैं उस वक्त के तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को भी याद करना चाहूंगा, जिन्होंने देश को एक मजबूत भरोसा दिलाया था, जिसके दम पर हम कारिगल फतह कर सके। कैलाश चौधरी ने कहा कि कारगिल विजय दिवस के पावन अवसर पर मैं देश की रक्षार्थ अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले अमर शहीदों के बलिदान को याद करते हुए नमन करता हूँ। सीमा पर तैनात हमारे देश के सैनिक तपती धूप और कड़कड़ाती ठंड में हमारी रक्षा के लिए प्राण हथेली पर रखकर देशसेवा में लगे है, हम सभी उनके इस समर्पण भाव और राष्ट्रप्रेम को नमन करते है।

मोदी सरकार कर रही है सेना और शहीदों का सम्मान : केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की रक्षा में प्राण न्यौछावर करने वाले शहीदों की याद में बने राष्ट्रीय समर संग्रहालय निर्मित करवाकर देशवासियों को समर्पित करके सच्ची श्रद्धांजलि दी है। साथ ही देशहित और जांबाज सैनिकों के सम्मान में वन रैंक बन पेंशन लागू करने, सेना के लिए बुलेट प्रुफ जैकेट की खरीद, आधुनिक सैन्य सामग्री और आधुनिक हथियारों की खरीद के फैसले दिखाते हैं कि मोदी सरकार को नामुमकिन को मुमकिन बनाना आता है। सेना के सम्मान में राफेल विमानों की खरीद सहित रक्षा क्षेत्र में दशकों से रुके फैसलों पर अब अमल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सेना को मजबूती देने के लिए पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने 6 हजार करोड़ की रक्षा खरीद को मंजूरी दी है। रक्षा मंत्रालय के द्वारा आत्मनिर्भर भारत और मेक इन इंडिया को लगातार बढ़ावा दिया जा रहा है।