You are currently viewing विद्यालय बना मवेशी एवं मकई रखने का अड्डा

विद्यालय बना मवेशी एवं मकई
रखने का अड्डा

ब्युरो खगड़िया-मोहम्मद नैयर आलम

खगड़िया/कोरोना के दूसरे लहर में सरकार के गाइड लाइन के आधार पर विद्यालय, मंदिर, मस्जिद समेत सभी सरकारी संस्थान को बंद कर दिया गया था। लेकिन विद्यालय में किसान अपने मकई एवं मवेशी को रख रहे हैं। वही कारण यह है कि पढ़ाई तो बच्चे का होता नहीं है, जिस कारण पशुपालक अपने पशुओं को बाढ़ एवं बारिश से सुरक्षा के लिए विद्यालय में ही पशु को रखते हैं। इसी कड़ी में प्रखंड क्षेत्र के बोबील पंचायत अंतर्गत वार्ड नंबर 6 हरिजन स्कूल में एक पशु पालक का मवेशी रह रहा है यदि ग्रामीणों के द्वारा मना किया जाता है तो पशुपालक ग्रामीण के उपर मारपीट पर उतारू हो जाता है। वही विद्यालय में पठन-पाठन नहीं रहने के कारण विद्यालय का स्थिति बद से बदतर हो चुका है। विद्यालय में कहीं-कहीं किसान पशु एवं मकई रखते हैं। यदि विद्यालय खुला रहता तो आज विद्यालय पशु का बथान नहीं बनता। वही दिघोन पंचायत प्राथमिक विद्यालय हरिजन में विद्यालय के एच एम का मकई रखा हुआ है।