You are currently viewing नीतू कनौजिया के बसपा ज्वाइन करने से भाजपा सपा में खलबली

नीतू कनौजिया के बसपा ज्वाइन करने से भाजपा सपा में खलबली

बसपा अपने खोए वजूद को फिर पा सकती है वापस

बसपा के गढ़ में भाजपा ने लगाई थी सेंध

कौशांबी मंझनपुर विधानसभा क्षेत्र बीते दो दशक से बसपा का गढ़ माना जाता था लेकिन बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने पूर्व काबीना मंत्री इंद्रजीत सरोज को पार्टी से निष्कासित कर दिया बहुजन समाज पार्टी से निकाल दिए जाने के बाद इंद्रजीत सरोज ने समाजवादी पार्टी का दामन थाम्भा तो जरूर था लेकिन बसपा छोड़ दिए जाने के बाद मंझनपुर क्षेत्र से इंद्रजीत सरोज जीत का परचम नहीं फहरा सके बदली समीकरण में मंझनपुर विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी लाल बहादुर ने वर्ष 2017 में जीत का परचम फहरा दिया लेकिन उनके रूखे व्यवहार के चलते जनता उनसे संतुष्ट नहीं हैं कांग्रेस पार्टी के भीतर भितरघात के चलते राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस का वजूद जिले में भितरघात का शिकार बन कर रह गया है जबकि बसपा के मजबूत गढ़ कौशांबी में बसपा के आगे समाजवादी पार्टी की दाल नहीं गलती थी कभी कभी समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार विधानसभा में जीत दर्ज कर पाते थे बीते विधानसभा चुनाव में तीनों सीट पर भाजपा प्रत्याशी जीत दर्ज कर बसपा के इस किले पर चोट पहुंचाई थी लेकिन विधानसभा चुनाव 2022 में मंझनपुर विधानसभा से डॉ नीतू कनौजिया ने बहुजन समाज पार्टी से दावा ठोक दिया है जिससे मंझनपुर विधानसभा के संभावित प्रत्याशियों में खलबली मच गई है

मंझनपुर विधानसभा से नीतू कनौजिया का नाम संभावित प्रत्याशी के रूप में आने के बाद बसपा के खोए वजूद को एक बार फिर संजीवनी मिलती दिख रही है। माना जा रहा है कि जिस तरह से नीतू कनौजिया बसपा को मजबूत करने के लिए इलाके में अपनी ताकत झोंक रखी है इसे लेकर कहीं ना कहीं विपक्षी दल सपा और भाजपा की बेचैनी बढ़ती दिख रही है। हालांकि आने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारियां को लेकर सभी राजनीतिक दल अपनी अपनी अपनी गुुुणा गणित बैठाना शुरू कर दिया है कोई दल सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहा है तो कोई दल सरकार को विफल बता रहा है। अनुसूचित जाति मंझनपुर सुरक्षित सीट से बसपा को उबारने के लिए डॉ नीतू कनौजिया ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा दिया है। तो वहीं पर समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता हेमंत टुन्नू और शिव मोहन चौधरी के बीच रस्साकशी चल रही है। तमाम राजनीतिक पंडितो का माननाा है इस बार भाजपा मंझनपुर विधानसभा से टिकट के बंटवारे में फेरबदल कर सकती है। जबकि राजनैतिक स्तर पर काम करने वाली कांग्रेस पार्टी भी अपना प्रत्याशी उतारने के लिए गोट बैठा रही है लेकिन कांग्रेस पार्टी का वजूद बनता नहीं दिख रहा है राजनीतिक पंडितोंं का मानना है कि यदि मंझनपुर सुरक्षित सीट से बहुजन समाज पार्टी ने डॉ नीतू कनौजिया को टिकट दिया तो मंझनपुर के चुनाव में बहुजन समाज पार्टी अपने खोए जनाधार को वापस पा सकती है हालांकि नीतू कनौजिया का कहना है कि मंझनपुर सीट से उन्हें बहुजन समाज पार्टी टिकट देकर चुनाव लड़ने का मौका देती है तो वह पूरी हिम्मत और दमदारी से चुनाव मैैदान मे अपनी जीत सुनिश्चित करेंगी