You are currently viewing शाकाहारी नशामुक्त बनो-बनाओ और शाकाहारी नशामुक्त देशभक्त योग्य को ही वोट दो

जय गुरु देव
21.08.2021
प्रेस नोट

शाकाहारी नशामुक्त बनो-बनाओ और शाकाहारी नशामुक्त देशभक्त योग्य को ही वोट दो

मांस, मछली, अंडा, शराब का सेवन बहुत बड़ा पाप है, इसकी सख़्त सजा मिलेगी

बार-बार सभी को इस कुदरत के नियमों को समझा कर मिलने वाली कुदरती सजा से बचाने के लिए दिन-रात अथक प्रयास करने वाले इस समय के पूरे सन्त सतगुरु उज्जैन वाले बाबा उमाकान्त जी महाराज ने 20 अगस्त 2021 को अलवर, राजस्थान में यूट्यूब चैनल जयगुरुदेवयूकेएम पर प्रसारित अपने सन्देश में बताया कि आपने इस शरीर को गंदा कर के बीमारियां झेली, मांस अंडा मछली खाकर के जीव हत्या किया, पाप कमाया। शरीर से जबान के स्वाद में जीवों को तड़पा-तड़पा कर हत्या करके खाया तो कुदरत तो नाराज होगी ही।

जानवरों को मारता-काटता उनके मांस को निकालता लाता पकाता खाता-खिलाता है सबको बराबर पाप लगता है

देखो बच्चियों आप कहते हो मैं तो खाती नहीं हूं, केवल बनाती हूं। मेरे पति मांस खाते हैं, शराब पीते हैं लेकिन मैं तो खाती नहीं हूं। आप यह समझ लो कि नियम यह है कि जो कत्ल करे उसको भी सजा मिले, जो योजना बनावे, हथियार दे सबको सजा मिलती है। ऐसे ही जो जानवरों को मारता है, काटता है, लाता है, पकाता है, खिलाता है, खाता है – सबको बराबर पाप लगता है। इसलिए अब घर पर नहीं आना चाहिए। पाप से बचना। पाप का बहुत बड़ा बोझा होता है।

संकल्प बनाओ कि एक महीने में 4-6-10 लोगों को शाकाहारी बनाएंगे तो बहुत से जीवों की जान बच जाएगी

आप इतने आदमी बैठे हो, आप शाकाहारी का प्रचार करने लग जाओ। एक-एक आदमी संकल्प बना लो कि महीने में 4-6 लोगों को शाकाहारी बनाएंगे। और हम घर से निकलेंगे। दुकान-दफ्तर में बैठे रहेंगे, कोई आएगा तो हम ग्राहक को, दफ्तर में आने वाले को समझाएंगे, शाकाहार के बारे में बताएंगे। आप महीने में 4-6-10 लोगों को अगर शाकाहारी बना लो तो भी बहुत लोग शाकाहारी हो जाएं तो बहुत से जीवों की जान बच जाए।

वोट देने का अधिकार 5 साल में एक बार मिलता है किसी शाकाहारी नशा मुक्त देश भक्तों को ही वोट दो

आप जीव हत्या मांस-शराब को बंद नहीं कर सकते हो क्योंकि आपके हाथ में अधिकार रहा नहीं। 5 साल में अधिकार आता है। कब? जब वोट देने के लिए जाते हो। एक मिनट आधा मिनट का अधिकार आपको मिलता है जब बटन दबाना होता है। बटन तो दबा दिया। ये तो देखा नहीं कि मांसाहारी है कि शराबी है कि देश को बेचने वाला है कि देश को बर्बाद करने वाला है, देश का पैसा गरीबों का पैसा उड़ाने वाला है। उस समय तो जाति-पाति, भाई-भतीजावाद में बटन को दबा दिया। अब आपका अधिकार खत्म हो गया। 5 साल के बाद अधिकार मतदान देने का जो आपको मिलता है आपने किसी से न तो पूछा कि आप शाकाहारी हो कि नहीं हो, शाकाहार का प्रचार करोगे कि नहीं करोगे, आप शराब और अपराध बंद करोगे कि नहीं करोगे जिससे जनता दु:खी है, जिससे प्रकृति के नियम के खिलाफ लोग काम कर रहे हैं, प्रकृति सजा दे रही है – इसका उपाय निकालोगे की नहीं। यह तो आपने पूछा नहीं और बटन दबा दिया तो आपका अधिकार खत्म हो गया।

मांस, मछली, अंडा, शराब का सेवन नहीं करना है। यह बहुत बड़ा पाप है, इसकी सजा मिलेगी

आप समझो झूठ बोलना बहुत बड़ा पाप होता है लेकिन जान बचाने के लिए झूठ भी बोल दो तो क्षम्य होता है। क्षम्य किसको कहते हैं। माफी के लायक, माफी के योग जो होता है। आप यह समझो जान बचा लो लोगों की, शाकाहारी बना दो। आप यह समझो मांस मछली अंडा शराब का, शराब जैसे तेज नशे का सेवन नहीं करना है। ऐसे नशे का सेवन नहीं करना है कि जिससे मां बहन बेटी की पहचान आंखों से खत्म हो जाए, आप मदहोश हो जाओ। बच्चे को मारो, बाप को मारो, औरत को मार दो, औरत पति को मार दे – ऐसे नशे का सेवन नहीं करना है।