दारागंज में चेकिंग के दौरान लापरवाही पर हेड कांस्टेबल नौशाद और सिपाही सुरजीत को लाइन हाजिर कर दिया। बताया जा रहा है कि रात में साईं मंदिर के पास चेकिंग के दौरान कार से असलहा भी मिला था। इस प्रकरण की सिविल लाइंस पुलिस जांच कर रही है।
वहीं, डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने मंगलवार को नैनी थाने के 10 और सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया। इससे पूर्व नैनी इंस्पेक्टर राज किशोर समेत तीन पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर किया था। मंगलवार को फूल मंडी चौकी इंचार्ज अखिलेश राय, नैनी जेल चौकी इंचार्ज राम बहादुर सिंह, थाना नैनी के हेड कांस्टेबल जितेंद्र कुमार, हेड कांस्टेबल अमित पांडेय, सिपाही हरगोविंद सिंह, सिपाही राजन प्रसाद, सिपाही प्रदीप गिरि, सिपाही ज्ञानेंद्र तिवारी और चालक अरुण कुमार पर गाज गिरी है। बताया जा रहा है कि आरोपी सिपाहियों की काम में लापरवाही और वसूली की शिकायत थी। कुछ सिपाहियों पर रिपोर्टिंग का भी आरोप है। बताया जा रहा है कि सेटिंग करके उन्होंने नैनी थाने में दोबारा तैनाती पाई थी। डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने बताया कि कहीं भी वसूली की शिकायत मिली तो कठोर कार्रवाई की जाएगी।