You are currently viewing कृषि उपयोग में आने वाला ट्रैक्टर बालू माफियाओ के लिए है वरदान

कृषि उपयोग में आने वाला ट्रैक्टर बालू माफियाओ के लिए है वरदान।
सुघर सिंह राजपूत
कौशाम्बी अन्नदाता ने ट्रेक्टर को हमेसा कृषि उपयोग के लिये इस्तमाल किया है।पहले किसी गाओं में एक या दो ट्रैक्टर द्वखने को मिलते थे।आज हर गाओं में कई ट्रैक्टर देखने को मिलता है।अन्नदाता से ज्यादा उपयोग अब खनन माफिया और बालू माफिया इसका इस्तेमाल करते है।चायल सर्किल में तो एक दिन में सैकड़ो ट्रैक्टर ओवर लोड बालू लादे गाओं 2 बालू की सप्लाई कर रहे है।और खनन माफिया रातभर मिट्टी का खनन कर ट्रैक्टरों का इस्तेमाल करते है।

*गैर जनपद से भी आते है ट्रैक्टर।*
       कौशाम्बी जिले से सटे हुए जिले के ट्रैक्टर भी कौशाम्बी जिले में बालू लादने के लिए आते है।हैरानी करने वाली बात है कि आखिर ट्रैक्टर का परमिट कहा तक है।और ट्रक से ज्यादा ओवर लोड बालू लाद कर कैसे सड़क पर बेखौफ चलते है।न तो किसी अधिकारी का खौफ और ही किसी प्रकार के दुर्घटना का खौफ।
भले ही अधिकारी ओवर लोड न चलने की बात कहते हो लेकिन फिरभी बालू माफियाओ को इसका कोई खौफ नही है।बालू माफिया ट्रक के बजाय ट्रैक्टर का इस्तेमाल कर रहे है क्योंकि इसमें न तो परमिट की आवश्यक्ता है और न ही ओवर लोड का चक्कर।

देखना है इस पर उच्चाधिकारी क्या कार्यवाही करते है या फिर इसी तरह खनन और बालू माफिया इसी तरह अपना कार्य करते रहेंगे।