You are currently viewing नाकाफी हैं जिले भर में मात्र 18 धान क्रय केंद्र.…अजय सोनी

नाकाफी हैं जिले भर में मात्र 18 धान क्रय केंद्र.…अजय सोनी

समर्थ किसान पार्टी के नेता अजय सोनी ने जिले भर के किसानों के धान बिक्री को लेकर विपणन विभाग द्वारा बनाए गए मात्र 18 धान क्रय केंद्रों को नाकाफी बताया है। पार्टी नेता अजय सोनी ने इस संबंध में जिला प्रशासन और खाद्य एवं विपणन विभाग के अधिकारियों से जनपद में धान उत्पादन के अनुपात में धान क्रय केंद्रों की संख्या बढ़ाने की मांग की है अन्यथा शासन को पत्र भेजकर इसकी शिकायत करने की चेतावनी दी है।

पार्टी नेता अजय सोनी के मुताबिक कौशांबी जनपद धान उत्पादन के मामले में प्रदेश में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखता है और यहां प्रचुर मात्रा में धान का उत्पादन होता है। वैसे भी इस साल मानसून बेहतर रहने के कारण जिले भर में धान की बंफर पैदावार होने की संभावना है। ऐसे में विभाग द्वारा पूरे जिले भर में मात्र 18 धान क्रय केंद्र बनाना निश्चित तौर पर नाकाफी हैं इससे किसानों को धान बिक्री में दिक्कत होगी। अजय सोनी के मुताबिक जिले भर में विपणन विभाग द्वारा खोले गए मात्र 18 धान क्रय केंद्रों की संख्या को बढ़ाने की जरूरत है। अजय सोनी ने जिला प्रशासन से मांग किया कि धान उत्पादन के अनुपात में जिले भर में कम से कम 30 धान क्रय केंद्र खोले जाएं

अपने पार्टी कार्यालय उदहिन बुजुर्ग में कार्यकर्ताओं से वार्ता करते हुए अजय सोनी ने जिले भर में मात्र 18 धान क्रय केंद्र बनाने के विपणन विभाग के निर्णय पर सवाल उठाते हुए कहा कि शायद धान मिल के मालिकों की विभागीय अधिकारियों से मिलीभगत के चलते ऐसा निर्णय लिया गया है। आगे कहा कि पहले ही सरकारी आंकड़ों में सबकुछ दुरुस्त दिखाकर शासन को झूठी रिपोर्ट भेजने एवं किसानों के बजाय बड़े बड़े व्यापारियों से गुपचुप तरीके से धान क्रय कर किसानों को दरकिनार किया जाता रहा है। आगे कहा कि इतनी कम संख्या में क्रय केंद्र खोले जाने से स्थानीय स्तर पर धान क्रय केंद्र न होने पर किसान मज़बूरी में व्यापारियों को धान विक्रय करने पर विवश होंगे जिसके चलते किसानों का आर्थिक शोषण होना तय है।

अजय सोनी ने जिले के बड़े जनप्रतिनिधियों से भी सवाल किया कि उनकी नाक के नीचे विभागीय अधिकारी ऐसा कृत्य कर रहे हैं और उन्हें कोई फ़र्क नहीं पड़ रहा। आगे सवाल किया कि क्या विभाग के अधिकारियों से जनपद के बड़े जनप्रतिनिधियों एवं सत्ता से जुड़े नेताओं की मिलीभगत से ऐसा किया जा रहा है या कुछ और बात है। अब ऐसे में किसानो की आय साल 2022 तक दुगुनी करने की भाजपा सरकार की मंशा कैसे फलीभूत होगी, यह बड़ा ही शोचनीय विषय है।

अजय सोनी ने जिला प्रशासन एवं खाद्य एवं विपणन विभाग के अधिकारियों से मांग किया कि इस साल धान की बन्फर पैदावार को देखते हुए जल्द ही जिले में धान क्रय केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाय नहीं तो शासन को पत्र भेजकर इसकी शिकायत की जाएगी और विभाग का घेराव किया जाएगा। इस अवसर पर सुरजीत वर्मा, सुरेश तिवारी, नर्मदा प्रसाद यादव, मानसिंह पटेल, राम मनोहर सरोज, बाबू लाल लोधी, सोनी मौर्य, पुष्पा सोनकर, मालती सिंह आदि मौजूद रहे