You are currently viewing अनुभवी व काबिल कर्मचारियो के बावजूद वार्ड में रह चुके प्रभारियों को फिर प्रभाग दिए जाने पर आस्थपना विभाग पर उठे सवाल

अनुभवी व काबिल कर्मचारियो के बावजूद वार्ड में रह चुके प्रभारियों को फिर प्रभाग दिए जाने पर आस्थपना विभाग पर उठे सवाल

मुंबई महाराष्ट्र से नरगिस खान की रिपोर्ट

UFT NEWS 24

निलंबित लिपिकों को प्रभारी सहायक आयुक्त का पद दे कर आर्थिक फायदे का लगता रहा है आरोप

मुंबई महाराष्ट्र । वसई विरार मनपा में कई ऐसे काबिल अनुभवी कर्मचारी हैं जिन्होंने अपने विभिन्न पदों पर रहते हुए कई उल्लेखनीय कार्य किए हैं ऐसी जानकारी सूत्र देते हुए कहते हैं कि जो कर्मचारी अपने कार्यो के चलते कई बार ख़बरों में भी बने रहते थे उनके उल्लेखनीय कामो के द्वारा उन्हें व महानगर पालिका को प्रसिद्धि मिलती रही थी । यही बातें शायद कुछ नेताओं व वरिष्ठ अधिकारियों व चापलूसी करने वाले कर्मचारियो को नागवार गुजरती थी जिस के चलते वह ऐसे कर्मचारियो की कमियों को निकाल कर वरिष्ठ अधिकारियों से कह कर उन्हें साइड लाइन कर उन्हें ऐसे काम दे दिया करते हैं जंहा पर उन्हें कोई उल्लेखनीय कार्य भी करने व अधिकार भी ना मिल सके । आयुक्त गंगाथरन डी ने आने के बाद डेपुटेशन पर बड़ी संख्या में सहायक आयुक्त व उप आयुक्त को लाने में कामयाबी पाई थी । अब सवाल यह उठता है कि जिन लिपिकों पर गंभीर आरोप लगते रहे हैं जो जिस प्रभाग में लिपिक प्रभारी सहायक आयुक्त रह चुके हैं उन पर गंभीर आरोप लगते रहे हैं उन्हें बदली कर फिर उसी प्रभाग में सहायक आयुक्त आखिर उनकी कौन सी अच्छी काबिलयत पर बना दिया जाता हैं जब कि इनमें कई निलंबित भी रह चुके हैं । बोलिंज ,चन्दनसार ,नालासोपारा वालीव ,पेल्हार,अचोले, नवघर मानिकपुर , इन प्रभाग कार्यलाय में कई ऐसे प्रभारियों को सहायक आयुक्त बना दिया गया है जिन में कई लिपिक रहते हुए निलंबित रह चुके हैं तो कई ऐसे हैं जिन पर कई गंभीर आरोप अवैध निर्माणकर्ताओं के साथ सांठगांठ के लगते रहे हैं । सूत्रों के अनुसार लिपिकों को प्रभारी सहायक आयुक्त छह महीनों के लिए बनाया जाता है जब कि वसई विरार मनपा में सारे नियमों को ताक पर रख कर आस्थपना विभाग निलंबित और गंभीर आरोप वाले लिपिकों को प्रभाग में कई वर्षों तक प्रभारी सहायक आयुक्त में आर्थिक आशीर्वाद लेते हुए वर्षो तक प्रभारी बनाए हुए रखता आ रहा है । आखिर इनकी ऐसी क्या काबिलियत है जिस के चलते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को इन्हें बार बार प्रभारी सहायक आयुक्त बना दिया जाता है जब कि डेपुटेशन पर सहायक आयुक्त को विभागों को संभालने का काम दे दिया जाता है । विश्वस्त सूत्रों के अनुसार आस्थपना व वरिष्ठ अधिकारियों के आर्थिक आशीर्वाद से इन दागी लिपिकों को फिर से प्रभारी सहायक आयुक्त बना दिया जा रहा है जब कि काबिल और अनुभवी कर्मचारियो को उनकी काबिलियत को नजरअंदाज कर वरिष्ठ अधिकारी उन्हें साइड लाइन किए हुए नजर आ रहे हैं। सूत्रों के अनुसार वसई विरार मनपा के विभिन्न विभागों में कई ऐसे कर्मचारी हैं जो अनुभवी और काबिल भी हैं जिन्हें उनकी काबिलियत के हिसाब से काम दिया जा सकता है लेकिन ऐसे कर्मचारी को किसी राजनीतिक आकाओं का आशीर्वाद प्राप्त नही होता है और ना ही यह वरिष्ठ को आर्थिक फायदा ही पहुंचा पाते हैं जिस के कारण उन्हें साइड लाइन रह कर काम करना पड़ रहा है।