असोथर का लाल मुंबई मे मचा रहा धमाल

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह ।।

फतेहपुर- असम्भव को सम्भव करके दिखाने वाले हृतिक शुक्ला का जन्म एक बहुत ही मध्यवर्गीय परिवार मै हुआ था हृतिक को शुरवती दिनों से ही लोगो के सामने नाचने मै कोई हिचक नहीं होती थी जिससे लोग उनका मजाक उड़ाते थे और कहते थे बेटा पड़ा ई लिखाई करो ये सब मेहरो वाले काम तुमको शोभा नहीं देता लोगो ने बहुत हतो तसहित किया लेकिन हृतिक ने कुछ अलग कुछ बडा करने की ठानी थी तो रुके नहीं और खुद को तरशने के लिए मुंबई व दिल्ली गए जहां यह असोथर गांव का यह लाल कुछ करके दिखा दिया और अपने आलोचकों के मुंह बन्द कर दिए थे लेकिन फिर से भगवान ने इसकी परीक्षा लि है और एक बहुत भीड़ सन मार्ग दुर्घटना ने उसको जीवन पे एक विराम जरूर लगाया लेकिन हिम्मत नहीं हारी और आज भी यह नौजवान कुछ अलग करके दिखाना चाहता है अपनी और अपने छोटे से कस्बे असोथर की एक नई पहचान बनाना चाहता है हाल मै ही एक वीडियो एलबम के माध्यम से उसने अपने इरादे जता दिए है और बहुत जल्द ही कुछ बड़े बड़े प्रोजेक्ट्स आप लोगो के बीच होंगे जिनका खुलासा अभी नहीं किया उन्होंने बताया कि कुछ पहले से बता देने से लोगो की नजर सी लग जाती है
उन्होंने ये भी बताया कि एक कैमरा लेके वीडियो कोई भी बना सकता है और आज उन्हीं को देख सुन के है बहुत से लोग बना भी रहे है लेकिन किसी टीवी सीरियल या बॉलीवुड तक जाना व्हा पे नाम कामना बड़ी बात होती है साथ ही अपने आलोचकों से कहा है की उनकी आलोचना जारी रखे क्योंकि आलोचना से उनको कुछ हट के और कुछ अलग करने की प्रेरणा मिलती है उन्होंने हथगाम की शान बन चुके वसीक सनम जी को शिव सिंह सागर को कदम कदम पर साथ देने वाले सबसे बड़े हितैषी बता या और कहा जब जब उनकी हिम्मत छोटी पड़ी तब तब हौसला बढ़ाने का काम वसीक सनम जी और शिव सिंह सागर जी ने किया
वहीं सुशील सैनी ‌सौरभ
योगेन्द्र सिंह बॉबी तिवारी और उनके स्कूल के सहपाठी सूरज सिंह ने एसीसीडिंट के बाद उनका वरबर हौसला बढ़ाया और कहा कि भाई अप कुछ करोगे हिम्मत मत छोटी करो
सूरज सिंह ने बहुत अच्छी बात कही कि
देख हृतिक भाई अंधेरे के बाद रोशनी अति है आज थोड़े समय के लिए आपके जीवन मै अंधेरा जरूर आया है लेकिन ये आपको सिखायेगा की कोन अपना है और कोन अपनेपन का ढोंगी हिम्मत करो और आगे बढ़ो रुको नहीं