You are currently viewing आवारा पशुओं से फसलों के हो रहे नुकसान से निजात न मिली तो किसान करेंगे आवारा पशुओं के साथ अधिकारियों का घेराव…अजय सोनी

आवारा पशुओं से फसलों के हो रहे नुकसान से निजात न मिली तो किसान करेंगे आवारा पशुओं के साथ अधिकारियों का घेराव…अजय सोनी

ग्राम जगन्नाथपुर मे किसानों के साथ बैठक में अजय सोनी ने कहा कि आवारा पशुओं की समस्या का समाधान न किया गया तो तबाह हो जाएंगे हजारों किसान

प्रति पांच किमी की दूरी पर गौशाला खोले जाने एवं प्रति गौशाला कम से कम 100 आवारा पशुओं के रखने की व्यवस्था की अजय सोनी ने की मांग

आवारा पशुओं से किसानों की फसलों के हो रहे नुकसान से परेशान क्षेत्र के तमाम किसानों ने आवारा पशुओं के साथ अधिकारियों के घेराव करने का फैसला किया है। इस संबंध में समर्थ किसान पार्टी के नेता अजय सोनी के साथ जगन्नाथपुर गांव के कई किसानों ने बैठक की। बैठक में मौजूद रहे किसानों से वार्ता करते हुए अजय सोनी ने कहा कि जिला प्रशासन एवं पशुपालन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते किसानों की फसलों का आवारा पशुओं द्वारा भारी नुकसान किया जा रहा है। बार बार शिकायत करने के बाद भी जिला प्रशासन एवं पशुपालन विभाग के अधिकारियों के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है और किसान अपने खेतों की रखवाली करने को विवश है। आगे कहा कि जल्द ही इस विषय पर अगर जिला प्रशासन के अधिकारी एवं पशुपालन विभाग के अधिकारियों द्वारा समुचित कार्यवाही नहीं की गई तो सैकड़ों किसान आवारा पशुओं के साथ इन सभी अधिकारियों का घेराव करेंगे जिसकी समस्त जिम्मेदारी जिला प्रशासन एवं पशुपालन विभाग के अधिकारियों की होगी।

अजय सोनी ने बताया कि आवारा पशुओं के चलते किसानों को आज दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। मंहगाई और बिजली, पानी की किल्लत से जूझ रहे किसानों को अपनी फसलों की सुरक्षा के लिए दिन रात खेतों की रखवाली करनी पड़ती है। आगे कहा कि आवारा पशुओं की समस्या को लेकर बार बार शिकायत की गई है और अधिकारियों को ज्ञापन भी दिया गया है लेकिन समस्या जस की तस है। आगे कहा कि आवारा पशुओं की समस्या का समाधान न किया गया तो किसान तबाह हो जाएंगे।

जिला प्रशासन द्वारा आवारा पशुओं के ठहराव के लिए बनाए गए क्षेत्र के एकाध गौशाला में अति सीमित संख्या में पशुओं को रखने की प्रशासन की व्यवस्था के बारे में बोलते हुए अजय सोनी ने कहा कि प्रशासन एवं पशुपालन विभाग की गौशाला की व्यवस्था उंट के मुंह में जीरा साबित हो रही है। आगे कहा कि आवारा पशुओं की संख्या को देखते हुए प्रति पांच किमी में एक गौशाला खोला जाना चाहिए जिससे कम से कम 100 आवारा पशुओं के रखने की व्यवस्था हो। अजय सोनी ने इस संबंध में जिला प्रशासन एवं पशुपालन विभाग के अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि जल्द ही इस संबंध में ठोस कार्रवाई नहीं हुई तो किसानों के साथ जोरदार तरीके से आंदोलन किया जाएगा जिसकी सारी जिम्मेदारी जिला प्रशासन एवं पशुपालन विभाग की होगी। इस अवसर पर सुरजीत वर्मा, राम गोपाल यादव, सूरजभान सिंह, रामबाबू गौतम, शिवम तिवारी, बाबूलाल लोधी समेत कई लोग मौजूद रहे।