भाजपा नेता अनिल श्रीवास्तव के तहरीर पर दो के विरूद्ध रेहरा बाज़ार थाना में धोखाधड़ी व जालसाज़ी का मुकदमा पंजीकृत

यूपी फाइट टाइम्स से राधेश्याम गुप्ता की रिपोर्ट

रेहराबजार/बलरामपुर= भाजपा नेता आनिल श्रीवास्तव की तहरीर पर
पुलिस मामले की जांच में जुटी
भाजपा नेता अनिल श्रीवास्तव निवासी ग्राम सरायखास थाना रेहरा बाज़ार ने रेहरा बाज़ार थाना में दीए तहरीर में आरोप लगाया है कि राम दुलारे पुत्र गुरु प्रसाद ,राजकरन पुत्र शिवनाथ, धर्मराजी पत्नी राजकरन निवासी ग्राम छितलुपुर थाना सादुल्लाह नगर से एक इकरारनामा जमीन खरीदने को लेकर चार लाख रूपये देकर किया था शेष तय रकम रजिस्ट्री होने के समय देना तय हुआ था इस बीच जमीन के संबंधित जो भी विवाद व अन्य होंगे उनका निस्तारण कराकर जमीन की रजिस्ट्री उपरोक्त व्यक्तियों द्वारा किया जाना था प्रार्थी तय इकरार नामे के अनुसार उक्त लोगों से सम्पर्क करता रहा कि शीघ्र विवाद समाप्त करवाकर प्रार्थी को रजिस्ट्री कर दी जाए उक्त लोग जल्द रजिस्ट्री कराने का आश्वासन देकर टालते रहे और इसी बीच रामदुलारे पुत्र गुरु प्रसाद ने प्रार्थी को शीघ्र विवाद समाप्त करवाने के नाम पर 15लाख ले लिया राजकरन ने भी 10 लाख ले लिया कि शीघ्र रजिस्ट्री हो जाएगी परंतु रजिस्ट्री नहीं की राम दुलारे की मृत्यु के बाद राजकरन व धर्मराजी पर रजिस्ट्री का दबाव बनाया तो कहा कि जल्द ही जमीन रामदुलारे के स्थान पर धर्मराजी के नाम चढ जाएगी व तुरंत रजिस्ट्री कर दी जाएगी लेकिन काफी समय बीत जाने के बाद भी राजकरन व धर्मराजी रजिस्ट्री से टाल मटौल करते रहे तो प्रार्थी ने संभ्रांति व्यक्तियों के समक्ष चर्चा की गयी तो राजकरन ने स्वीकार किया कि 6 अगस्त को तय इकरारनामा के अनुसार रजिस्ट्री कर देंगे तब राजकरन से संबंधित जमीन के कागजात मांगा तो मुझे मुकदमे के आदेश दिखाए व जमीन की खसरा खतौनी गाटा संख्या क ख दिखाया व बताया कि रामदुलारे के नाम पर धर्मराजी का नाम चढ गया है मैंने उनको देखा तो उसमें धर्मराजी का नाम लिखा था लेकिन मुझे कुछ आशंका हुई कि फर्जी पेपर है मैने राजकरन से पेपर मांगा तो खसरा खतौनी के लिए दस दिन का समय मांगा इसी बीच जमीन से संबंधित खतौनी निकलवायी तो पता चला कि जमीन अभी भी रामदुलारे के नाम दर्ज है व जमीन पर कमिश्नर कोर्ट से स्थगन आदेश है
राजकरन द्वारा फर्जी व कूटरचित दस्तावेज तैयार कर प्रार्थी को दिखाया गया है जिस पर रजिस्ट्री करने की बात कही जा रही थी वह सब फर्जी थे राजकरन व धर्मराजी ने फर्जी दस्तावेजों को दिखाकर अनिल श्रीवास्तव से इकरारनामा व रजिस्ट्री करने के नाम पर लाखों रुपए एंठ लिए
उक्त के संबंध में अनिल श्रीवास्तव के तहरीर पर रेहरा बाज़ार थाने में
धर्मराजी व राजकरन के विरूद्ध धारा 419,420,467,468,471,406 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया है