You are currently viewing केंद्रीय दल ने लिया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा

केंद्रीय दल ने लिया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा

संवाददाता राधेश्याम गुप्ता

बलरामपुर। बाढ़ से हुई क्षति का स्थलीय निरीक्षण के लिए केन्द्रीय दल ने दो दिवसीय जनपद भ्रमण किया। गुरूवार देर शाम को अधिकारियों के साथ बैठक की व शुक्रवार को केन्द्रीय दल ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया।
बाढ़ से हुई क्षति के सम्बंध में जिला प्रशासन ने मेमोरेंडम शासन को भेजा था। भारत सरकार को भेजे गए मेमोरेंडम में सड़क, पुल, डिप, बिजली के खम्भे व उपकरण, पंचायत भवन, स्वास्थ्य उपकेन्द्र, आंगनबाड़ी केन्द्र व अन्य सार्वजनिक भवनों को हुई क्षति से सम्बंधित धन की मांग की गई थी। इसी मेमोरेंडम के संदर्भ में स्थलीय निरीक्षण के लिए केन्द्रीय दल ने जिले का भ्रमण किया। केन्द्रीय दल में अपर गंगा बेसिन, सीडब्लूसी के निदेशक बीसी विश्वकर्मा, रोड ट्रांसपोर्ट हाईवे के अधीक्षण अभियंता आशीष शुक्ला व राहत आयुक्त कार्यालय कन्सल्टेंट प्रवीन किशोर शामिल थे। सीडब्लूसी निदेशक श्री विश्वकर्मा की अध्यक्षता में गुरूवार को यूपीटी सभागार में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में अपर जिलाधिकारी अरूण कुमार शुक्ल ने बताया कि वर्ष 2020 में बाढ़ तथा कटान से जिले में काफी क्षति हुई है। आपदा प्रबंधन सलाहकार सचिन मदान ने मेमोरेंडम से सम्बंधित समस्त ब्योरे की संक्षिप्त जानकारी देते हुए बुकलेट केन्द्रीय दल को सौंपी। उपजिलाधिकारी सदर नागेन्द्र नाथ यादव ने बैठक का संचालन किया। बीएसए रामचंद्र ने बताया कि कटान के चलते कल्याणपुर का परिषदीय विद्यालय पूर्णतयः ध्वस्त हो गया है। वहीं कई अन्य परिषदीय विद्यालयों को भी बाढ़ से नुकसान पहुंचा है। डीपीआरओ नीलेश प्रताप सिंह ने पंचायत भवनों को हुई क्षति का ब्योरा प्रस्तुत किया। निर्माण खण्ड, लोकनिर्माण विभाग के एई शैलेश कुमार ठाकुर व प्रान्तीय खण्ड के एई केके मिश्रा ने जिले में सड़कों को हुई क्षति के बारे में केन्द्रीय दल को जानकारी दी। सीएमओ घनश्याम सिंह ने बताया कि जिले के कुछ स्वास्थ्य उपकेन्द्रों को बाढ़ व कटान के चलने नुकसान पहुंचा है। विद्युत विभाग बलरामपुर डिवीजन के अधिशासी अभियंता सुनील कुमार ने बताया कि बिजली के खंभों व ट्रांसफार्मरों को भी बाढ़ के कारण नुकसान हुआ है। इसी प्रकार जिला कृषि अधिकारी मंजीत कुमार, तुलसीपुर तहसीलदार कृष्ण गोपाल त्रिपाठी, उतरौला तहसीलदार नरेन्द्र राम ने भी क्षति के सम्बंध में जानकारी दी। इस अवसर पर बाढ़ खण्ड के एई आशीर्वाद नाथ अंचल, अरूण कुमार, नायब तहसीलदार अंकुर यादव, रवि शुक्ल, प्रवीण पाण्डेय आदि मौजूद थे। शुक्रवार को केन्द्रीय दल के सदस्यों ने सदर एसडीएम व आपदा प्रबंधन सलाहकार के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। ढोंढरी गांव में पहुंचे सदस्यों बीसी विश्वकर्मा, आशीष शुक्ला व प्रवीन किशोर ने ग्रामीणों से बातचीत की। बताते चलें कि ढांढेरी गांव में राप्ती नदी ने जबरदस्त कटान की है। जिसके चलते मार्ग पूर्णतयः कट गया है। गांव के अस्तित्व को भी खतरा उत्पन्न हो गया है। ग्राम प्रधान ने ग्रामीणों को हो रही समस्याओं के बारे में केन्द्रीय दल को अवगत कराया। कोड़री घाट पुल का निरीक्षण भी केन्द्रीय दल के सदस्यों ने किया। इसके बाद भुसैलिया के स्वास्थ्य उपकेन्द्र व पंचायत भवन की भी स्थिति दल ने देखी। सीडब्लूसी निदेशक श्री विश्वकर्मा ने कहा कि बलरामपुर जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करके नुकसान का आकलन किया गया है। वह शासन को इसकी रिपोर्ट सौंपेंगे। उनका प्रयास होगा कि जिले को आपदा निधि के रूप में अधिक से अधिक धन मुहैया हो जिससे संसाधनों को पुनः पुराने स्थिति में लाया जा सके। इसके बाद केन्द्रीय दल श्रावस्ती के लिए रवाना हो गया।