You are currently viewing चारो तरफ बाढ़ का पानी घेर लिया

चारो तरफ बाढ़ का पानी घेर लिया

ब्युरो खगड़िया-मोहम्मद नैयर आलम

खगड़िया/बेलदौर प्रखंड क्षेत्र के जनता को बाढ़ का चिंता सताने लगा। मालूम हो कि निचले इलाके में प्रत्येक दिन बाढ़ के पानी में वृद्धि हो रही है। जिनसे ग्रामीणों का रोजमर्रा का कार्य बाधित हो रहा है। मालूम हो कि इतमादि पंचायत के गांधीनगर बाढ़ के पानी से चारों तरफ घिरा हुआ है। वही ग्रामीण अपने माल मवेशी को ऊंचे जगह ले जा रहे हैं। प्रत्येक दिन जल स्तर में वृद्धि होने के कारण गांधीनगर गांव अवस्थित, प्राथमिक विद्यालय कोसी के गर्भ में समाने के लिए मात्र 10 से 15 फीट कटाव होने के लिए बचा हुआ है। वही दिघोन पंचायत के वार्ड नंबर 10 मैं करीब चार सौ परिवार बसे हुए हैं, जो बाढ़ के पानी से चारों तरफ घिर चुका है। उक्त ग्रामीणों को मात्र एक ही सहारा है नाव, वही नाव के सहारे ही अपने माल मवेशी का चारा लाते हैं, कभी कभार नाव पलटने से दुर्घटना भी हो सकती है। इस संबंध में झकसू शर्मा, पंकज शर्मा, मोहन शर्मा, पंजू शर्मा के चूल्हा तक पानी पहुंच चुका है। उक्त ग्रामीणों को बाढ़ में डूबे चापाकल का पानी पीना पड़ता है। जिससे छोटे-छोटे बच्चे बीमार हो रहा हैं। वही दिघोन पंचायत के वार्ड नंबर 10 के ग्रामीण महिला बीना देवी ने बताई कि मेरे गांव को चारों तरफ से बाढ़ का पानी घेर लिया है। हम लोगों को बेलदौर बाजार आने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। यदि मेरे गांव में किसी महिला को प्रसव कराने के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बेलदौर लाना पड़े तो, उक्त मरीज को खटिया एवं नाव के सहारे सूखे स्थान तक ले जाना पड़ता है। यदि रात्रि में बिजली कट जाती है तो काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। वहीं जलीय जीव से छोटे-छोटे बच्चे को ऊंचे स्थानों पर सुलाना पड़ता है। लेकिन एक बार भी स्थानीय प्रशासन मेरे क्षेत्र में ग्रामीणों से मिलने तक नहीं पहुंचे हैं, कि ग्रामीण को किस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ता है। उक्त मामले को लेकर उक्त पंचायत के ग्रामीण प्रमोद सहनी ने बताया कि स्थानीय सीओ सुबोध कुमार को कई बार मोबाइल के माध्यम से सूचना दिया गया कि मेरे क्षेत्र में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। जिनसे मेरे क्षेत्र के ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उक्त बात को सुनकर सीओ सुबोध कुमार ग्रामीणों को कहा कि जांच पड़ताल करने के लिए आएंगे। लेकिन उक्त स्थल पर अभी तक स्थानीय प्रशासन जनता से सीधी तक लेने नहीं पहुंचे।