कांग्रेसियों ने राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन एडीएम को सौंपा

ब्यूरो चीफ आर पी यादव

कौशांबी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का मूल्य कम होने के बाद भी देश की सरकार ने अधिक टैक्स लगाकर पेट्रोलियम पदार्थों का मूल्य बाहर रखा है। जिससे अन्य वस्तुओं का भी रेट बढ़ा है यदि सरकार पेट्रोलियम के मूल्य कम कर दे तो आज सभी वस्तुओं के मूल्य लगभग 30% गिर जाएंगे। जिससे आम लोगों को इस करोना महामारी की बेरोजगारी के समय में भारी राहत होगी। उक्त बातें पार्टी जिला अध्यक्ष अरुण विद्यार्थी ने अपर जिलाधिकारी को राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन देते हुए कही।

इस मौके पर बोलते हुए प्रदेश सचिव व जिला प्रभारी विवेकानंद पाठक ने कहा कि सरकार यदि तत्काल पार्टी की मांगों को मानते हुए उनके मूल काम नहीं करती है, तो कांग्रेस के कार्यकर्ता आगामी 1 जुलाई 2020 तहसील और ब्लाक स्तर पर 4 जुलाई 2020 को प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज कराएगी। इस मौके पर बोलते हुए अल्पसंख्यक कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर हंजला उस्मानी उन्होंने कहा कि सरकार को आम लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए तत्काल प्रभाव से पेट्रोलियम पदार्थों में लगाए जा रहे भारी टैक्स को कम करना चाहिए। राष्ट्रपति के नाम संबोधित 5 सूत्री ज्ञापन में कांग्रेसियों ने तत्काल पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्य कम कराए जाने का निर्देश सरकार को जारी किए जाने की मांग किया। इस मौके पर प्रमुख रूप से शाहिद सिद्धकी, पप्पू मिश्रा, वेद प्रकाश सत्यार्थी, शमीम अहमद, रजनीश पांडेय, तमजीद अहमद, फैसल अली, जितेन्द्र शर्मा, सरफराज, खालिद जाफरी, विनोद चौधरी, असगर मदनी, भारत गौतम, राजेंद्र प्रसाद त्रिपाठी, शशि प्रताप तिवारी, गुलाम अहमद इजहार अब्बास सहित दर्जनों की संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता मौजूद रहे।