विवाद के चलते रुका पंचायत भवन का निर्माण

संवाददाता रवि चंद्रा की रिपोर्ट

ग्राम पंचायत में प्रस्ताव के बाद लेखपाल ने किया था चिन्हित।

नीव भरने के बाद भूमिधरी बता कर रुकवाया गया निर्माण कार्य।

मऊआइमा। तिलई बाजार ग्राम पंचायत की खुली बैठक में हुए प्रस्ताव के बाद हल्का लेखपाल द्वारा जमीन की पैमाइश कर चिन्हित किये जाने के बाद जब पंचायत भवन का निर्माण कार्य शुरू हुआ और बुनियाद भी पड़ गयी तो गांव के ही एक युवक की शिकायत पर खण्ड विकास अधिकारी ने निर्माण कार्य रुकवा दिया।जिसे लेकर ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त है।मामले में ग्राम प्रधान द्वारा विभागीय अधिकारियों को शिकायती पत्र भेज कर निर्माण कार्य आरम्भ कराये जाने की मांग की है।

मऊआइमा थाना क्षेत्र के जामहा ग्राम पंचायत में पंचायत भवन बनाने के लिए ग्राम पंचायत की खुली बैठक में बस्ती के दरमियान स्थित नवीन परती भूमि का सर्वसम्मति से चयन किया गया।स्थान के चयन के बाद उपजिलाधिकारी के आदेश पर हल्का लेखपाल शिवराम द्वारा जमीन की पैमाइश की गयी।ग्राम प्रधान ननकी देवी द्वारा पंचायत भवन के निर्माण का काम शुरू किया गया अभी बुनियाद पड़ी थी कि इस बीच खण्ड विकास अधिकारी बहरिया द्वारा ग्राम पंचायत अधिकारी को भेज कर निर्माण कार्य रुकवा दिया गया।निर्माण कार्य स्थगित होने पर जब ग्राम प्रधान ने इसकी बीडीओ से शिकायत किया तो उन्होंने बताया कि उक्त गाटा का कुछ भूभाग गांव के कलेश्वर की भूमिधरी बतायी गयी है जिसके चलते निर्माण कार्य रोका गया है।पंचायत भवन का निर्माण कार्य स्थगित होने से ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त है।निर्माण कार्य स्थगित कराये जाने को द्वेषपूर्ण बताते हुए ग्राम प्रधान ननकी देवी ने मुख्य विकास अधिकारी,जिलाधिकारी सहित मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेज कर रुके हुए निर्माण कार्य को आरम्भ कराये जाने की मांग की है। इस संबंध में जब खण्ड विकास अधिकारी से बात की गयी तो उन्होंने कहा मामले की जांच कर जल्द पुनः पैमाइश करा कर निर्माण कार्य शुरू कराया जाएगा।

फ़ोटो : पंचायत भवन का निर्माण कार्य रुकवाने का विरोध करते ग्रामीण