You are currently viewing सीआरसी लखनऊ तथा सक्षम अवध प्रांत ने आयोजित किया विशाल कोविड-टीकाकरण कैंप

यूपी फाइट टाइम्स लखनऊ
रामकिशोर यादव लखनऊ ब्यूरो चीफ
सीआरसी लखनऊ तथा सक्षम अवध प्रांत ने आयोजित किया विशाल कोविड-टीकाकरण कैंप

1 हजार व्यक्तियों को लगा टीका मंत्री ने की तारीफ
लखनऊ समेकित क्षेत्रीय कौशल विकास पुनर्वास एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण केंद्र सीआरसी लखनऊ पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय शारीरिक दिव्यांगजन संस्थान नई दिल्ली के प्रशासनिक नियंत्रणाधीन दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार एवं सक्षम अवध प्रांत के द्वारा आयोजित टिको उत्सव दिव्यांग जनों एवं आम जनमानस हेतु कोविड-19 टीकाकरण अभियान का आयोजन दिनांक 21/9/2021 को सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक समेकित क्षेत्रीय केंद्र सीआरसी लखनऊ के प्रांगण में किया गया कार्यक्रम का शुभारंभ मनीष गुप्ता माननीय राज्य मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार एवं उपाध्यक्ष उत्तर प्रदेश व्यापारी कल्याण बोर्ड के कल कमलों द्वारा किया गया कार्यक्रम में मुख्य अतिथि माननीय मंत्री जी का स्वागत रमेश पांडे निदेशक सीआरसी लखनऊ के द्वारा पुष्पगुच्छ प्रदान कर तिलक लगाकर किया गया इस कार्यक्रम में बोलते हुए मनीष गुप्ता जी ने कहा कि सीआरसी लखनऊ का यह कदम अद्वितीय है इस महा आयोजन से अनेकानेक दिव्यांग जनों को उनके क्षेत्र में ही भारत सरकार द्वारा निशुल्क चलाई जा रही कोविड- टीका करण का लाभ मिल पा रहा है तथा साथ ही साथ दिव्यांग जनों के अभिभावक तथा शाह कर्मियों को भी इस आयोजन का लाभ मिल पा रहा है कार्यक्रम में अपने मनोभावों रखते हुए रमेश पांडे जी ने कहा कि सीआरसी लखनऊ निरंतर दिव्यांग जनों के पुनर्वास एवं सशक्तिकरण हेतु प्रयासरत है जिससे क्रम में आज का कार्यक्रम उनके स्वास्तिक हितों को ध्यान में रखकर आयोजित किया गया कार्यक्रम का संयोजन श्रीमती स्मिता जयवंत निदेशक पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय शारीरिक दिव्यांगजन संस्थान नई दिल्ली डॉक्टर जय शंकर पांडे क्षेत्र संयोजक सक्षम पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र रघुवेंद्र सिंह प्रांत सचिव अवध प्रांत सक्षम एवं रमेश पांडे निदेशक सीआरसी लखनऊ के द्वारा कराया गया इस महा टीकाकरण अभियान में लगभग 10000 व्यक्तियों जिनमें दिव्यांगजन उनको अभिभावक तथा अन्य सामान्य जनों का टीकाकरण किया गया कार्यक्रम में सीआरसी लखनऊ के समस्त अधिकारी कर्मचारी तथा प्रशिक्षुओं नी पूर्ण मनोयोग से कार्यक्रम को सफल बनाया