You are currently viewing दिल्ली में EWS कैटेगरी के नाम पर विदेशियों के बच्चों को दिया जा रहा दाखिला हुआ बड़ा खुलासा

दिल्ली में EWS कैटेगरी के नाम पर विदेशियों के बच्चों को दिया जा रहा दाखिला हुआ बड़ा खुलासा

देश की राजधानी दिल्ली में खुले तौर पर प्राइवेट स्कूलों में EWS सीटों पर विदेशियों के बच्चे पढ़ रहे हैं. स्कूल में फ्री में एडमिशन के लिए वो सीटें जो हमारी और आपकी होनी चाहिए, उन सीटों पर बाहर से आए लोग कब्जा कर रहे हैं दिल्ली में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों के बच्चों के साथ प्राइवेट स्कूलों में मुफ्त शिक्षा के नाम पर खिलवाड़ हो रहा है. दिल्ली में गरीब लोगों के बच्चों को सरकार स्कूल तो अलॉट कर रही है लेकिन स्कूल बच्चों को दाखिला दे ही नहीं रहे. लेकिन केजरीवाल सरकार उन एडमिशन के लिए भी पेरेंट्स को बधाई दे रही है जो हुए ही नहीं. दरअसल, देश की राजधानी दिल्ली में खुले तौर पर प्राइवेट स्कूलों में EWS में सीटों पर विदेशियों के बच्चे पढ़ रहे हैं. देश की राजधानी दिल्ली में बर्मा के शरणार्थी रहते हैं और वो दिल्ली वालों का हक मारकर प्राइवेट स्कूलों में EWS कोटे के तहत एडमिशन हासिल कर रहे हैं. दिल्ली के निजी स्कूलों में ईडब्ल्यूएस और डीजी श्रेणी के छात्रों को दाखिला लेने में परेशानी हो रही है। अभिभावकों के मुताबिक शिक्षा निदेशालय ने कंप्यूटराइज्ड ड्रा के तहत स्कूलों में सीटें आवंटित की है। इसके बावजूद स्कूल दाखिला लेने से मना कर रहे हैं।
इसके साथ ही हम आपको बता दें कि पिछले कई महीनों से दुर्गा सप्तशती अध्यक्ष फाउंडेशन की फाउंडर संध्या सिंह लगातार अभिवावकों के साथ प्रयास कर रही हैं और वह सभी अभिभावकों के लिए अंधेरे में एक किरण बनी हुई हैं आज झमाझम बारिश के बीच उन्होंने उम्मीद की किरण नही छोड़ी और वह एडमिशन की आज आखिरी तारीख होने की वजह से एडमिशन के लिए अड़ी रही जिसके वाबजूद कमेटी ने 8 दिन का और समय मांगा इसके साथ ही भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने EWS पर कई खुलासे किए और उन्होंने सीबीआई जांच की मांग भी की क्योंकि उनका कहना है कि इसमें बहुत बड़ी धांधली हुई हैं

दिल्ली बृजेश कुमार की रिपोर्ट