You are currently viewing संसदीय क्षेत्र में शत-प्रतिशत विद्युतीकरण की मांग को लेकर कैलाश चौधरी ने की ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह से मुलाकात

संसदीय क्षेत्र में शत-प्रतिशत विद्युतीकरण की मांग को लेकर कैलाश चौधरी ने की ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह से मुलाकात

केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने संसदीय क्षेत्र बाड़मेर जैसलमेर के गाँवों और ढाणियों में जल्द से जल्द शत प्रतिशत विद्युतीकरण को लेकर की केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह से मुलाक़ात, विद्युतीकरण योजना में मरुस्थलीय क्षेत्र की विषमता को देखते हुए 5 घरों के समूह को मानक बनाने की मांग

दिल्ली/जयपुर/बाड़मेर-जैसलमेर

बाड़मेर-जैसलमेर संसदीय क्षेत्र के विद्युतीकरण से वंचित केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने संसदीय क्षेत्र बाड़मेर जैसलमेर के गाँवों और ढाणियों में जल्द से जल्द विद्युतीकरण को लेकर शुक्रवार शाम को दिल्ली में केंद्रीय ऊर्जा मंत्री राज कुमार सिंह से मुलाक़ात की। इस दौरान कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने बिजली कनेक्शन से वंचित घरों के लिए विद्युतीकरण योजना के अनुसार प्रस्तावित ग्रुपों में 20 घरों की संख्या से मरुस्थलीय क्षेत्र में घटाकर 5 घरों की संख्या को मानक मानते हुए “सौभाग्य योजना” के अंतर्गत विद्युत कनेक्शन उपलब्ध करवाए जाने के बारे में चर्चा की।

ऊर्जा मंत्री आरके सिंह से मुलाकात के बाद कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश विद्युत के क्षेत्र में महान उपलब्धियां हासिल कर रहा है। देश के सौ फीसदी घरों में बिजली पहुंचाने का काम पूरा होने की ओर अग्रसर है। जिन घरों का विद्युतीकरण बाकी है, उन सभी घरों का जल्दी से जल्दी विद्युतीकरण करने के लिए प्रयास कर रहे हैं। कैलाश चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार ने देश में सार्वदेशिक विद्युतीकरण का लक्ष्य हासिल करने के लिए सितंबर 2017 में ‘प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना’ (सौभाग्य) की शुरूआत की थी। इस योजना में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में बिना बिजली के बकाया सभी घरों में अंतिम छोर तक बिजली के कनेक्शन उपलब्ध कराने का प्रावधान है।

केंद्र सरकार शत-प्रतिशत विद्युतीकरण को लेकर प्रतिबद्ध : कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने बताया कि सौभाग्य योजना के तहत विद्युतीकरण के अनुसार प्रस्तावित ग्रुपों में 20 घरों की संख्या आवश्यक होती है। ऊर्जा मंत्री आरके सिंह से मरुस्थलीय क्षेत्र की विषमता और प्रतिकूल परिस्थितियों को देखते हुए इसमें छूट देने और प्रस्तावित समूह में अनिवार्य संख्या 20 से घटाकर 5 घरों की संख्या को मानक मानते हुए “सौभाग्य योजना” के अंतर्गत विद्युत कनेक्शन उपलब्ध करवाए जाने के बारे में चर्चा की और आग्रह किया है। कैलाश चौधरी ने कहा कि सौभाग्य योजना के तहत ऐसे ग्रामीण क्षेत्र जो दूर के हैं और अभी तक बिजली से वंचित हैं, उनके लिए केंद्र सरकार शत-प्रतिशत विद्युतीकरण को लेकर प्रतिबद्ध है। सहज बिजली हर घर योजना सौभाग्य के तहत शत प्रतिशत गांवों को विद्युतीकरण से लैस किया जाएगा। अब एक भी गांव या घर बिजली से वंचित नहीं रहेगा।