विकासखंड परिसर के चंद कदमों की दूरी पर विकास के दावे फेल

ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर जनपद के मलवां विकासखंड के ब्लॉक मलवां क्षेत्र के ग्राम पंचायत मलवां में विकासखंड परिसर से चंद कदमों की दूरी पर कुछ देर की बारिश ने ग्राम पंचायत के विकास के दावों की पोल खोल कर रख दी जल निकासी की समस्या के चलते आनन-फानन में इंटरलॉकिंग को तोड़ना पड़ा वहीं आसपास की नालियां घूर गोबर सिल्ट से जमी पड़ी है। जो ग्राम सभा के विकास के दावों की पोल खोल रही है ऐसे में विकास का दावा करने वाले ग्राम सचिव उच्च अधिकारियों को कागजी खानापूर्ति दिखाकर अपनी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ रहे हैं। जिसका जीता जागता प्रमाण कस्बे की नाली व आम रास्ते की दशा बयां कर रहे हैं। कस्बे व ब्लॉक परिसर को जोड़ने वाले इंटरलॉकिंग रोड इन दिनों आम नागरिकों का निकलना दूभर हो गया है। कीचड़ व मिट्टी के चलते लोग दूसरे रास्तों की ओर अपना रुख कर रहे हैं। उच्च अधिकारियों को गुमराह करना तो ब्लॉक के सचिव का बाएं हाथ का खेल है। आखिर वर्षा ऋतु आने के पूर्व स्वच्छता व सफाई अभियान हेतु कर्मचारियों को लेकर लापरवाही उदासीनता रवैया क्यों अपनाया गया यह समझ से परे। ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार वह भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वच्छ भारत मिशन, स्वच्छता अभियान को मुंह चिढ़ा रहे लापरवाह कर्मचारियों के चलते जिला प्रशासन के साख को ग्राम सचिव लगा रहा बट्टा। यदि समय पर जल निकासी की समस्या की समुचित व्यवस्था होती तो बारिश के मौसम में ग्रामीणों को समस्याओं का सामना ना करना पड़ता नाही शासन के पैसों से बनी इंटरलॉकिंग को तोड़ना पड़ता जिससे शासन के पैसों का भी बचाव किया जा सकता था।

fइस बाबत डीपीआरओ अजय आनंद सरोज से दूरभाष के जरिए संपर्क करने का प्रयास किया गया तो संपर्क नहीं हो सका।