जिलाधिकारी श्री नितीश कुमार ने शहरी आजीविका केन्द्र  बरेली का किया शुभारंभ, प्रवासी मजदूरों को मिलेगा काम।

बरेली-जिलाधिकारी श्री नितीश कुमार ने आज शहरी आजीविका केन्द्र को लांच करते हुए कहा कि दैनिक जरूरतों के घरेलू कार्यो से लेकर बाजार के विशेष उत्पादों को एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराता है शहरी आजीविका केन्द्र (सीएलसी)। विकास भवन सभागार में इसके लांचिंग के अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी श्री चंद्र मोहन गर्ग ने सीएलसी के बारे में बताया कि प्लम्बर, टीवी, एसी मैकेनिक, इलेक्ट्रीशियन, ड्राइवर, राजगीर, कार स्कूटर मैकेनिक आदि के लिए सीएलसी की हेल्पलाइन या अन्य फोन नंबर पर फोन कर निर्धारित शुल्क पर इनकी सेवाएं ली जा सकती हैं।
जिलाधिकारी को सीएलसी प्रबंधन द्वारा बताया गया कि सीएलसी में पंजीक्रत कामगार पहचान पत्र धारक होगा और उसका पुलिस वेरिफिकेशन भी किया जा चुका होगा। सीएलसी से उपलब्ध कराए गए कामगार की दरें भी निर्धारित होंगी। शहरी आजीविका मिशन, बरेली वर्तमान में करीब 50 से अधिक सेवाएं उपलब्ध करा रहा है और इस पर 100 से अधिक प्रशिक्षित कामगार अपना रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। इस सीएलसी की वेबसाइट bareillyclc.in है तथा टोल फ्री हेल्प लाइन 18001803693 है। इसके अलावा 0581-2548355 तथा 7248875786 पर भी किसी भी समय सम्पर्क किया जा सकता है।
जिलाधिकारी ने बताया कि बरेली में औद्योगिक इकाइयों तथा अन्य व्यवसायिक संस्थानों की कामगारों की मांग इस सीएलसी के माध्यम से पूरी होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि इस पर औद्योगिक इकाइयां अपनी मांग दर्ज करा सकती हैं, उनकी जरूरत के अनुसार उन्हें श्रमिक सीएलसी के माध्यम से उपलब्ध हो सकेंगे। उन्होंने बताया कि भविष्य में आवश्यकता अनुसार सीएलसी पर रजिस्टर्ड प्रवासी श्रमिकों को स्थानीय जरूरतों के अनुसार प्रशिक्षण भी उपलब्ध कराया जा सकता है। प्रशिक्षण उपरांत उन्हें प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा।
जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि लॉकडाउन के दौरान अन्य स्थानों से बड़ी संख्या में बरेली आए प्रवासी श्रमिकों तथा स्थानीय स्किल्ड श्रमिकों के लिए रोजगार उपलब्ध कराने का ये उत्तम प्लेटफार्म है। उन्होंने कहा कि सीएलसी पर वे कामगार भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं जो किसी अन्य स्थानों पर कार्य कर रहे हैं, और अतिरिक्त कार्य करना चाहते हैं। पार्ट टाइम काम करने वालों के लिए ये एक बेहतरीन अवसर है। बताया गया कि जल्दी ही सीएलसी पर उपलब्ध कामगारों को प्रथम, द्वितीय तथा त्रतीय श्रेणी में विभाजित कर दिया जाएगा। बताया गया कि वे कामगार जो सीएलसी की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन नहीं करा सकते हैं वे रजिस्ट्रेशन के लिए फोन कर सकते हैं, उनका इंटरव्यू लेकर उन्हें रजिस्टर कर लिया जाएगा। सीएलसी सर्विस प्रोवाइडर के रूप में कार्य करने के साथ ही बरेली के विशिष्ट उत्पादों के विक्रय का भी कार्य करेगी। सीएलसी पर ज़री आदि के उत्पाद बिक्री के लिए उपलब्ध रहेंगे। सीएलसी इनकी होम डिलिवरी कराएगी। वेबसाइट पर अनेक प्रकार के उत्पाद होंगे इनमें वे उत्पाद भी शामिल होंगे जो महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए हैं। सीएलसी पर महिला स्वयं सहायता समूह भी अपना रजिस्ट्रेशन करा सकती हैं।