क्या आप जानते हैं सूर्य ग्रहण से जुड़ी ये सात बातें ?

21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण इस बार कई ज्योतिषिय घटना लेकर आ रहा है. इस ग्रहण पर छह ग्रह वक्री हो रहे हैं. इसका मतलब है कि ये ग्रह उल्टी चाल चलेंगे. ज्योतिष विद्वानों की मानें तो ग्रहण की बहुत महत्वता है. सूर्य ग्रहण को लेकर हमारे मन में कई तरह की जिज्ञासाएं भी उठती हैं और हम इसके बारे में सब कुछ जान लेना चाहते हैं. ऐसे में यहां हम बता रहे हैंं सूर्य ग्रहण के बारे में वो अहम बातें जिन्‍हें आप जानना चाहेंगे.

  • मान्‍यता है कि सूर्य ग्रहण के दिन किसी पेड़ से पत्ते, फूल और लकड़ी नहीं तोड़नी चाहिए. इसके अलावा बाल और कपड़े भी नहीं निचोड़े जाने चाहिए.
  • सूर्य ग्रहण को लेकर मान्‍यता यह भी है कि ग्रहण के समय कोई भी शुभ या नया काम शुरू करने से बचना
    चाहिए.

  • मान्‍यता है कि सूर्य ग्रहण के समय अगर दूसरे व्‍यक्ति का अन्न खा लिया जाए, तो इससे 12 वर्षों का इकट्ठा किया हुआ सारा पुण्य नष्ट हो जाता है. वहीं यह भी कहा गया है कि इस समय गुरुमंत्र, ईष्टमंत्र या फिर भगवन्नाम का जप जरूर करना चाहिए.
  • इनके अलावा एक मान्‍यता यह भी है कि सूर्य ग्रहण के समय ताला नहीं खोलना चाहिए. मैथुन और भोजन भी नहीं करने चाहिए. वहीं इस दौरान सोना भी नहीं चाहिए और मलमूत्र का त्याग करने से भी बचें.

  • हालांकि सूर्य ग्रहण के दौरान कई पुण्‍य काम करने को कहा गया है. इस समय अगर गायों को घास, पक्षियों को अन्न के साथ ही अगर जरूरतमंदों को वस्त्र का दान दिया जाए, तो इसका कई गुना पुण्य मिलता है.
  • वहीं सूर्य ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को ज्‍यादा एहतियात बरतने की बात कही गई है. यह भी कहा गया है कि 3 दिन या 1 दिन उपवास किया जाए, तो इसका अच्‍छा फल प्राप्‍त होता है. हालांकि मान्‍यता यह भी है कि किसी संतान वाले गृहस्थ व्‍यक्ति को सूर्य ग्रहण और संक्रांति के दिन उपवास नहीं करना चाहिए.
  • एक मान्‍यता यह भी है कि ग्रहण वेध की शुरुआत में तिल या कुशमिश्रित पानी के इस्‍तेमाल से भी बचना चाहिए या बहुत ही जरूरी हो तभी इसका इस्‍तेमाल करना चाहिए. इसके अलावा सूर्य ग्रहण शुरू होने से लेकर इसके अंत तक अन्न और जल भी नहीं लेना चाहिए.