डॉ० अजय कृष्ण विश्वेशा बने बुलंदशहर के नये जिला जज, 20 जजों का हुआ स्थानांतरण

बुलंदशहर जिला जज नीलकंठ सहाय को बनाया गया अध्यक्ष, वाणिज्यक कर न्यायाधिकरण, लखनऊ


विनय चौहान

बुलंदशहर:-उत्तर प्रदेश में जजों की स्थानांतरण सूची में कुल 20 जजों का हुआ स्थानांतरण। जनपद के जिला जज नीलकंठ सहाय का भी हुआ स्थानांतरण, जिन्हें अध्यक्ष, वाणिज्यक कर न्यायाधिकरण, लखनऊ बनाया गया। तथा इलाहाबाद हाईकोर्ट में विशेष अधिकारी सतर्कता रहे डॉ अजय कृष्णा विश्वेशा को बुलंदशहर का नया जिला जज नियुक्त किया गया।


उच्च न्यायालय इलाहाबाद से रजिस्ट्रार जनरल अजय कुमार श्रीवास्तव ने कई जिला जजों को किया नियुक्ति तथा कई के किये तबादले, अजय कृष्ण विश्वेशा को बुलंदशहर का नया जिला जज नियुक्त किया , रवि नाथ देवरिया के जिला जज बने, लाल चंद गुप्ता मिर्जापुर के जिला जज बने, सैयद भाई मियां को अमरोहा का जिला जज बनाया गया, विनोद कुमार थर्ड को इलाहाबाद का जिला जज बनाया गया, उमेश कुमार शर्मा को सुल्तानपुर का जिला जज बनाया गया, हरवीर सिंह महोबा के जिला जज बने, जमीर अहमद बदायूं के जिला जज बने, अजय कुमार शामली के जिला जज बने, मोहम्मद रियाज ललितपुर, महफूज अली संत कबीर नगर के जिला जज बने।


डॉ अजय कुमार विश्वेशा पुत्र शिवदत्त शर्मा जो हरियाणा के रहने वाले हैं जिनका जन्म 1964 ईस्वी में हरिद्वार में हुआ था। जिन की शैक्षिक योग्यता एल एल एम है। इन्होंने उत्तर प्रदेश के अनेक जिलों में अनेक पदों पर रहकर विधिक कार्य किया है। यह सहारनपुर और इलाहाबाद के जिला जज भी रहे हैं। जिन्होंने अनेक जजों को पछाड़ते हुए बुलंदशहर जिले पर अपने नाम की मुहर लगवाने में कामयाब हुए हैं। जिनकी ईमानदारी के चर्चे उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों में फैले हुए हैं। कुछ ही दिनों में डॉ अजय कृष्णा विश्वेशा बुलंदशहर के जिला जज का पदभार ग्रहण करेंगे और यहां सभी को अच्छा न्याय दिलवायेगें।


शैलेंद्र कुमार अधिवक्ता ने बताया कि जनपद न्यायाधीश नीलकंठ सहाय बहुत ही ईमानदार और मेहनती है जिन्होंने अनेकों वादों का निस्तारण बहुत ही कम समय में कर दिखाया। ऐसा कार्य अन्य जनपदों में अभी तक नहीं हुआ है जैसा कार्य बुलंदशर जनपद में जिला जज नीलकंठ सहाय द्वारा किया गया है। जिनके स्थानांतरण होने पर उनके विदाई समारोह करने की तैयारी करेंगे। तथा इलाहाबाद से आने वाली डॉ अजय कृष्णा विश्वेशा का स्वागत करने के लिए हम तैयार हैं उनकी भी ईमानदारी के चर्चे बहुत सुने हैं। जिनसे मिलकर ही सही बातों का पता चलेगा।