You are currently viewing दुल्हन निर्मला कंवर की वतन वापसी पर बोले कैलाश चौधरी ; मुझे खुशी है कि परिवार को एक करने में सफल रहा

दुल्हन निर्मला कंवर की वतन वापसी पर बोले कैलाश चौधरी ; मुझे खुशी है कि परिवार को एक करने में सफल रहा

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री एवं बाड़मेर जैसलमेर सांसद कैलाश चौधरी के अथक प्रयासों से पाकिस्तान से भारत पहुंची दुल्हन निर्मला कंवर के बाड़मेर आगमन पर हुआ सांसद सेवा केंद्र में स्वागत समारोह

बाड़मेर

राजस्थान के जैसलमेर जिले के बईया गांव के विक्रम सिंह की दुल्हन ढाई साल बाद पाकिस्तान से भारत लौट गई है। केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री एवं बाड़मेर जैसलमेर सांसद कैलाश चौधरी के अथक प्रयासों से पाकिस्तानी दुल्हन निर्मला कंवर के बाड़मेर आगमन पर सांसद सेवा केंद्र कार्यालय में शनिवार को स्वागत समारोह रखा गया। इस दौरान भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य दिलीप पालीवाल, जिला महामंत्री स्वरुप सिंह खारा, जिला भाजपा मीडिया प्रमुख ललित बोथरा, जिला मंत्री अनीता चौहान, भाजपा स्वास्थ्य समन्वयक रमेश सिंह इंदा, पार्षद नरपत सिंह धारा, नवनियुक्त भाजपा युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष महेंद्र सिंह राजपुरोहित और केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी के निजी सहायक खेमराज कड़वासरा उपस्थित रहे।

2019 में जैसलमेर के बईया गांव निवासी विक्रम सिंह की शादी पाकिस्तान के सिंध इलाके में निर्मला कंवर से हुई थी, लेकिन पुलवामा हमला और बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद दोनों देशों के रिश्तों में खटास आ गई थी, जिससे वीजा नहीं मिलने के कारण दुल्हन भारत नहीं आ पाई थी। शुक्रवार को अटॉरी बॉर्डर से विक्रम सिंह की पत्नी निर्मला कंवर भारत के बाडमेर पहुंच गई। बाड़मेर पहुंचने पर केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी के जिला कलेक्ट्रेट स्थित कार्यालय सांसद सेवा केंद्र में जिले के तमाम बड़े भाजपा नेताओं की उपस्थिति में दुल्हन निर्मला कंवर का तिलक लगाकर स्वागत किया गया। इसके बाद केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी के निजी सहायक खेमराज कड़वासरा और भाजपा नेताओं ने दुल्हन निर्मला कंवर को चुनरी ओढ़ाकर और दूल्हे विक्रम सिंह का साफा पहनाकर सम्मान किया गया।

केंद्रीय मंत्री के प्रयास से संभव हो पाई है वतन वापसी : सांसद सेवा केंद्र में स्वागत समारोह के दौरान विक्रम सिंह ने केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि उनके प्रयासों से ही उनकी दुल्हन की वतन वापसी संभव हो पाई है। विक्रम सिंह के अलावा नेपाल सिंह और महेंद्र सिंह की भी शादी पाकिस्तान में हुई थीं, लेकिन केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी के प्रयासों से दोनों की दुल्हनें मार्च में ही भारत लौट गई थी। इसी बीच कोरोना महामारी ने भी दस्तक दे दी और वीजा की दिक्कतों के कारण निर्मला कंवर पाकिस्तान में ही रह गई, लेकिन उनका बेटा मई में भारत लौट गया था।

मुझे इस बात की खुशी है कि परिवार को एक करने में सफल रहा : निर्मला कंवर की वतन वापसी पर खुशी प्रकट करते हुए कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि पिछली बार 8 मार्च को दो बहुएँ आई थी, एक नहीं आ पाई। इसके लिए लगातार सम्पर्क में था। आज मुझे खुशी है कि मेरा तिनकाभर सहयोग बिछड़े परिवार को एक करने में सफल रहा। मैं व्यक्तिगत तौर पर इस कार्य में लगा था। कैलाश चौधरी ने कहा कि जब मुझे जानकारी मिली कि श्रीमती निर्मला बाई के माता-पिता, पति और बेटा सहित पूरा परिवार भारत आ गया, लेकिन वो पाकिस्तान में अकेली रह रही थी। मेरे लिए उससे भी बड़ा हर्ष का विषय यह है कि एक परिवार को लगभग तीन वर्ष बाद अपनी बहू से मिलने का सुअवसर मिलेगा और एक माँ कई दिनों बाद अपने पुत्र से मिलेगी। इस परिवार को मैंने मार्च महीने में बहू को जल्द से जल्द अपने घर लाने का वादा किया था, लेकिन कोरोना महामारी के कारण देरी हो गई। बहू का अपने घर में स्वागत है। मेरी ओर से भाई विक्रम सिंह व बहू निर्मला बाई को उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएँ।