निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मियों ने निकाला मशाल जुलूस

बिजली विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी सोमवार को मशाल जुलूस निकालकर निजीकरण का विरोध जताऐ। मशाल जुलूस मुख्यालय के पास से निकाल कर मंझनपुर चौराहा मे समाप्त हुआ । विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति पिछले कई दिन से निजीकरण के विरोध में आंदोलन कर रही है। इसके तहत जिले भर के बिजली कर्मी रोजाना शांतिपूर्ण तरीके से विरोध जता रहे हैं। समिति के अध्यक्ष ने बताया कि पूर्वांचल वितरण वितरण निगम को तीन टुकड़ों में विभाजित करके सरकार निजीकरण करना चाहती है। समिति इसका विरोध जता रही है। निजीकरण के प्रति सरकार व ऊर्जा प्रबंधन की मंशा व इसे धरातल पर लागू करने के उनके मंसूबे को जारी स्टैंडिग बिडिग डाक्यूमेंट से बखूबी समझा जा सकता है। कहा कि संघर्ष और युद्ध में जीत नेतृत्व की रणनीति और सदस्यों की निष्ठा, अनुशासन, धैर्य व समर्पण के साथ साथ भौतिक सहभागिता पर निर्भर करता है । ऐसे संघर्ष कार्यक्रम में अधिकांश सदस्यों की
संख्या निजीकरण का खुलकर बिरोध जताती है

देश, प्रदेश व समाज हित में इस ऊर्जा क्षेत्र को बचाना हम सबका नैतिक कर्तव्य है। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि सभी अधिकारी एवं कर्मचारी इस जुलूस में शामिल होंकर कार्यक्रम मे भाग लेकर मशाल जुलूस निकाल कर बैठक कीबैठक मे आगे की रणनीत पर वार्ता की गई|