किसान विरोधी तीनों कानूनों और बिजली कानून 2020 के विरोध में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले किसान जत्था आज

किसान विरोधी तीनों कानूनों और बिजली कानून 2020 के विरोध में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले किसान जत्था आज

यूपी फाइट टाइम्स
रिपोर्ट प्रमोद यादव ब्यूरो जयसिंहपुर सुल्तानपुर । किसान जत्थों के क्रम में आज दिनाँक 19 नवम्बर को किसान विरोधी तीनों कानूनों और बिजली कानून 2020 के विरोध में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले किसान जत्था आज कूरेभार ब्लॉक के देवकली ग्राम सभा शुरु हुआ।यह जत्था ममरखा,हाजीपुर,फुलौना, बरौला, खरसोमा होता हुआ सुदनापुर में समाप्त हुआ।इस मौके पर समिति के संयोजक शारदा प्रसाद पाण्डेय ने कहा कि यह जत्था आगामी 26/27 नवम्बर को दिल्ली में होनें वाली किसानों की रैली के समर्थन निकाला गया है।आगामी 27 नवम्बर को तिकोनिया पार्क में इन काले कानूनों के खिलाफ बड़ी विरोध कार्यवाही की जायेगी।किसान नेता बाबूराम यादव ने कहा कि सरकार ने जबरिया इन काले कानूनों को पारित किया है।उसका असर शुरू हो गया है।आज किसानों की धान की कीमत 8 रूपये से 10 रूपये तक पहुँच गयी है।हमारी मांग है कि MSP को कानून बनाया जाये।क्रय केंद्र न्याय पंचयात स्तर पर खोले जाये।किसान नेता राधेश्याम वर्मा ने कहा कि आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 में संसोधन का असर दिखना शुरू हो गया है।जमाखोरी शुरू हो चुकी है।आलू और प्याज के दाम जमाखोरी की वजह से ही बढ़े हुए है।आने वाले वक्त में सरकार किसान के उत्पाद की खरीद से अपना हाथ खींचने जा रही है, जिससे सार्वजनिक वितरण प्रणाली भी खत्म कर दी जायेगी।
जत्थें का नेतृत्व रामप्यारे वर्मा, राजबहादुर यादव,स्वामीनाथ यादव,प्रदीप वर्मा,दीपक वर्मा,पीयूष वर्मा, श्री कृष्ण बरनवाल,कुलदीप,अमित वर्मा,अरविन्द श्रीवास्तव,सैफ, राममूरत वर्मा आदि ने किया।भारत की जनवादी नौजवान सभा और स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया ने भी किया।