FATEHPUR- खंडहर में तब्दील हुआ पशु अस्पताल

FATEHPUR- खंडहर में तब्दील हुआ पशु अस्पताल

बिदंकी तहसील क्षेत्र के देवरी बुजुर्ग गांव में अस्पताल होने के बाद भी पशुओं को इलाज नहीं मिल पा रहा है मौजूद समय डॉक्टर भी नहीं है ग्रामीणों को मवेशियों का इलाज कराने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ रही है उधर देखरेख न होने से सरकारी इमारत खंडहर में तब्दील होती जा रहे हैं।
यह अस्पताल अमौली ब्लाक के देवरी बुजुर्ग गांव में बना है
कई साल पहले जब यह बनकर तैयार हुआ तो छेत्री मवेशी पालकों को लगा कि अब उन्हें अपने पालतू जानवरों का इलाज कराने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा।
नजदीक ही इलाज संभव हो सकेगा।सुनो मैं ऐसा हुआ कि लेकिन वक्त बीतने के साथ या पशु अस्पताल अनदेखी का शिकार हो गया आज हाल यह है कि पूरा अस्पताल जीर्ण हो चुका है। ऐसे में डॉक्टर ना होने सुविधा और कृतिम गर्भधान का लाभ भी नहीं हो पा रहा है।
देवरी बुजुर्ग के साथ-साथ सहिमलुपर अर्गल हसनपुर देवरी प्रसादपुर पांडे पुर बलिया बाग बस फ रा मदीहा खेड़ा दमादर पुर के पशुपालन प्राइवेट चिकित्सको के यहां इलाज कराने के मजबूर हैं। मवेशी पालकों ने अस्पताल की मरम्मत कराने के साथ चिकित्सक की तैनाती कराने की मांग की है।
अमोली ब्लाक के पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर अखिलेश सचान ने कहा कि केंद्र में डॉक्टर रमेश वर्मा की नियुक्त है केंद्र का भवन जर्जर होने के कारण वहां नहीं बैठ पाते हैं जल्द ही व्यवस्था दिखाई जाएगी।

Leave a Reply