FATEHPUR- चोरों ने सप्ताह में दूसरी बार बनाया पहरवापुर विद्यालय को निशाना


मलवा विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय पहरवापुर में एक सप्ताह मे दूसरी बार चोरी से होने से विद्यालय की प्रधानाध्यापिका नीलम सिंह भदोरिया अत्यंत आहत हुई हैं।ऊनका दर्द फेसबुक वाल पर की गई पोस्ट से झलक रहा है।उन्होंने इस विद्यालय को अपने अदम्य साहस और सूझबूझ के साथ उत्तर प्रदेश में सर्वश्रेष्ठ प्राथमिक विद्यालय का स्थान दिलाया है।सात माह मे लगातार पांचवी बार चोरी होने से वह अत्यंत दुखी हैं। इस बीच एक सप्ताह में यह दूसरी बार चोरी हुई है। बीती रात प्राथमिक विद्यालय पहरवापुर में चार कमरों के ताले तोड़ सामान को तहस-नहस कर दिया गया।बिजली के बोर्ड,कार्यालय के कमरों की कुंडी काट दी गई,इसके साथ ही सरकारी संपत्ति का नुकसान एवं विद्यालय में गंदगी फैला दी गई। दृश्य देखकर कोई भी आश्चर्यचकित हो जाएगा कि शिक्षा के मंदिर में इस तरीके से असभ्यता पूर्ण तरीके से कौन ऐसा करेगा।जहां पर देश के भविष्य का निर्माण होता है उसी ज्ञान के मंदिर में इस तरीके से चोरी करना समाज को कलंकित कर रहा है।इसके बावजूद भी पुलिस प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही ना किया जाना और चोरों को ना पकड़ा जाना सवालिया निशान खड़ा करता है। मैं खुद इस विद्यालय से आत्मिक रूप से जुडा हूं।एक ही विद्यालय को बार बार निशाना क्यू बनाया जा रहा है।प्रधानाध्यपिका नीलम सिंह भदौरिया के परिश्रम का फल है की इस विद्यालय ने प्रदेश मे जनपद को गौरव दिलाया।प्राथमिक स्कूलो मे भी अच्छी गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा दी जा सकती है उन्होने सिद्ध किया है।

कल्यानपुर व औंग थाने के विद्यालयो मे चोरी का नही हुआ खुलासा
इससे पूर्व कल्यानपुर थाना क्षेत्र के श्री भूमानन्द स्मारक इंटर कॉलेज साई,भाउपुर व औंग थाना क्षेत्र के उच्च प्राथमिक विद्यालय शिवराजपुर में भी चोरी हुई है जिनका अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है।विद्यालय बंद चल रहे हैं। चोरों को विद्यालय का निशाना बनाना ही अच्छा लग रहा है। ऐसे में चोरों तक पुलिस का नही पहुंच पाना सोचने की बात है।

नशेबाजो का हो सकता है काम
विद्यालयों में ज्यादा खास कीमती समान तो नहीं है किंतु सिलेंडर, पंखे व अन्य सामानों के साथ अभिलेखों को क्षतिग्रस्त किया जाता है।तथा चोरी की जाती है। इसमें क्षेत्र के ही नशेबाजो का कार्य हो सकता है जिन पर पुलिस की नजर नहीं जा रही है।
♦♦