FATEHPUR- छिवलहा में बिना डॉक्टर चल रहा है ये अस्पताल

छिवलहा में बिना डॉक्टर चल रहा है ये अस्पताल

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर(ब्यूरो)– जिला मुख्यालय से करीब 35 किलोमीटर दूर स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र छिवलहा में दस महीने से डॉक्टर नहीं है। जिसके चलते मरीजों को इलाज की सुविधा नहीं मिल पा रही है। प्रदेश सरकार द्वारा ग्रामीणों को मुफ्त में इलाज मिले, इसके लिए गांवों में सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोले गए है। डॉक्टरों की तैनाती की गई है। ताकि समय पर ग्रामीण क्षेत्रों के मरीजों को इलाज की सुविधा मिल सके, लेकिन छिवलहा में बने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की हकीकत कुछ और है।
जानकारी के अनुसार प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दो स्टाफ नर्स, एक ड्रेसर, दो सफाई कर्मचारी और एक डॉक्टर की नियुक्ति होनी चाहिए, लेकिन वर्तमान समय में यह प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एक स्टाफ नर्स के भरोसे चल रहा है। बाकी सारे पद खाली पड़े हुए है। छिवलहा ब्यापार मण्डल अध्यक्ष ने बताया कि जब से डाक्टर साहब का ट्रांसफर हुवा जिसके बाद से आज दिन तक केंद्र में किसी डॉक्टर की नियुक्ति नहीं हुई है।

रोज आ रहे हैं सैकड़ों मरीज
भीषण गर्मी पडऩे के कारण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों की संख्या बढ़ गई है। उल्दी, दस्त, पेटदर्द, बुखार,और टायफाइड के रोज सैकड़ों मरीज आ रहे है, लेकिन डॉक्टर नहीं होने के कारण मरीजों को इलाज की सुविधा नहीं मिल पा रही है। स्टाफ नर्स द्वारा मरीजों का हल्का-फुल्का ट्रीटमेंट करके वापस लौटाया दिया जाता है।

नदारत रहते है कर्मचारी
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ स्टाफ नर्स और वार्ड ब्वॉय भी आए दिन नदारत रहते है। स्टाफ की कमी से जूझ रहे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को परेशान होना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि केंद्र में स्टाफ की कमी को पूरा करने के लिए कई बार शासन और प्रशासन से मांग की गई, लेकिन दस महीने से डॉक्टर विहीन चल रहे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में स्टाफ की कमी को पूरा करने के लिए किसी के द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया गया।

गंदगी का लगा रहता है अंबार
छिवलहा ब्यापार मण्डल अध्यक्ष कमलेश गुप्ता,कोषाध्यक्ष राजेश केसरवानी,उपाध्यक्ष महेश गुप्ता सहित अन्य लोगों ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र छिवलहा में नियमित सफाई कर्मचारी नही होने के कारण गंदगी का अंबार लगा रहता है सफाई नहीं होने के कारण जगह-जगह कचरे का ढेर लगा रहता है। अस्पताल की सारी खिड़कियों के शीशे टूटे हुवे है अस्पताल की बाउंड्री गिरी हुई हैं इतनी लापरवाही कही देखी नही गयी