FATEHPUR- पत्रकारों से अभद्रता करने में आगे हैं दरोगा जी

फतेहपुर
एक तरफ जहां प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ जी पत्रकारों को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहते हैं पुलिस प्रशासन को पत्रकारों के प्रति सम्मान की भावना रखते हुए खबरें साझा करने की बात करते हैं पर फतेहपुर जिले में एक दरोगा ऐसा भी है जिसने मुख्यमंत्री के आदेश को ताक में रखकर खुद को उनका रिश्तेदार बता पत्रकारों के प्रति अभद्रता गाली गलौज करना महोदय के लिए आम बात हो गई है !
फतेहपुर जिले के खागा कोतवाली की महिचा मंदिर चौकी में वर्तमान में तैनात ये शक्स चौकी इंचार्ज कालिका प्रताप सिंह है पहले भी कई मामलों में सस्पेंड और निलंबित हो चुका है यही नहीं इसके खिलाफ दहेज उत्पीड़न लड़की द्वारा आत्महत्या किए जाने के मामले में मुकदमे का वादी बन पुलिस कप्तान द्वारा सस्पेंट होचुका है तो वहीं सूत्रों की मानें तो जिले के कई बड़े अपराधिक गतिविधियों में लिप्त लोगों के साथ इसके सम्बन्ध बताए जा रहे है

ये ऐसा दरोगा है जिसके लिए पत्रकारों से अभद्रता वा गाली गलौज करना आम बात हो गई है
पूर्व में इसने फतेहपुर शहर स्थित बाकरगंज चौकी में एक पत्रकार से अभद्रता की थी बाद में पत्रकार द्वारा पुलिस कप्तान से इसकी शिकायत की गई तो इसने हाथ पैर जोड़ माफी मांग कर आपसी आपसी समझौता कर लिया था फिर महोदय ने कुछ दिनों बाद शहर के वरिष्ठ पत्रकारों से पंगा ले लिया जिसमें सीओ फतेहपुर द्वारा जांच के उपरांत इसे लाइन हाजिर कर दिया गया
बाद में महोदय ने जुगाड़ लगा कर राधानगर चौकी ले ली पर महोदय का अपराधिक कार्यकाल बंद नहीं हुआ मध्यप्रदेश की एक लड़की से महोदय का अफैर चल रहा था बाद में इसने शादी को लेकर लड़की के पिता से मोटी रकम मांगी पर लड़की के पिता द्वारा दहेज ना दे पाने को ले कर लड़की ने आत्महत्या कर ली जिस पर लड़की के बाप ने महोदय पर आत्महत्या दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज करवाया और महोदय को पुलिस विभाग द्वारा भी सस्पेंड कर दिया गया
बाद में लड़की के पिता को इसने मोटी रकम दे कर समझौता कर कोर्ट से लीव आर्डर ले लिया कुछ दिनों बाद ये वापस चौकी आ गया पर इसने अपना अपराधिक इतिहास फिर दोहराने लगा बीते दिनों
जिला प्रेस प्रेस क्लब खागा के कुछ पत्रकारों से जानवरों की गाड़ी पकड़े जाने की खबर साझा करने को लेकर महोदय द्वारा पत्रकारों से अभद्रता व गाली-गलौज की गई जिसकी शिकायत प्रेसक्लब द्वारा फतेहपुर पुलिस कप्तान वा आई.जी प्रयागराज से की गई जिस पर पुलिस कप्तान ने जांच के आदेश दिए हैं.