FATEHPUR- बिंदकी कस्बे में लॉकडाउन बना मजाक प्रशासन पूरी तरह फेल जिम्मेदार मौन

बिंदकी कस्बे में लॉकडाउन बना मजाक प्रशासन पूरी तरह फेल जिम्मेदार मौन
यूपी फाइट टाइम्स
राजेश गौतम
बिंदकी फतेहपुर //जनपद के कस्बा बिन्दकी तहसील में प्रतिदिन हजारों की तादाद में भीड़ देखने को मिल जाएगी जहां पर सुबह के चार बजे से बारह बजे के बीच इतनी भीषण भीड़ देखने को मिलती है की कोरोना की तीसरी लहर तो क्या पांचवीं लहर भी आ जाये तो भी इससे स्थानीय प्रशासन को कोई फर्क नहीं पड़ना ऐसे में तो उत्तर प्रदेश सरकार को पूर्ण लॉक डाउन हटा देना चाहिए क्या फायदा ऐसे लॉक डाउन का जिसमें स्थानीय प्रशासन सम्पूर्ण लॉक डाउन करा पाने में पूरी तरह से असफल हो ऐसे में तो कई सवालिया निशान भी खड़े होते हैं नगर मुख्य मार्गों में सबसे ज्यादा भीड़ वाले स्थानों में से सबसे प्रमुख स्थान फाटक बाजार,नजाही बाजार,बजाजा गली,जुताहि गली,बर्तन बाजार,सराफा बाजार,किराना गली,मेन बाजार,बैलाही बाजार हैं जहां पर वृहद मात्रा में भीड़ आपको हर समय देखने को मिल जाएगी फतेहपुर जिलाधिकारी ने बारह बजे तक की इजाजत तो दे दी है लेकिन उसके बावजूद प्रतिबंधित दुकानें सुबह से लेकर दोपहर तक खुलने से जिलाधिकारी के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाते बिंदकी कस्बे के व्यापारी है बिंदकी कस्बे में सबसे ज्यादा भीड़ वाली जगह फाटक बाजार,मेन बाजार नजाही गली बजाता गली सराफा बाजार लंका रोड में ज्यादा वृहद स्तर से भीड़ होती है जहां कोरोनावायरस महामारी के चलते भीड़ दिखाई देती है इसमें बिंदकी स्थानीय प्रशासन पूरी तरह फेल नजर आया है जबकि पूरा देश महामारी से जूझ रहा है वहीं बिंदकी कस्बे में कुछ दुकाने चोरी छिपे लगातार खुलती और महालाएं समेत ग्राहकों को दुकान के शटर के पीछे भीड़ इकट्ठा होना आखिर कौन है जिम्मेदार जबकि बिंदकी कस्बे में उपजिलाधिकारी और स्थानीय थाना प्रभारी खुद भ्रमण करते फिर भी प्रतिबंधित दुकानदारों को कोई फर्क नहीं पड़ता है दुकानदारों द्वारा सरकार की गाइडलाइंस का पालन नहीं किया जाता है