You are currently viewing FATEHPUR- हत्यायुक्त शव के मामले में आया नया मोड़, युवती की शिनाख्त निकली गलत

खबर फ़तेहपुर

ललौली में मिले युवती के हत्यायुक्त शव के मामले में आया नया मोड़, युवती की शिनाख्त निकली गलत

जहानाबाद से गायब हुई लड़की पुलिस को मिली जिंदा

गलत पहचान करने वालों के खिलाफ हो सकती है कड़ी कार्यवाई

फतेहपुर / जहानाबाद कस्बे की युवती की मौत के मामले में नया मोड़ आया है। शिनाख्त हुई युवती मथुरा में पुलिस को सही सलामत मिली है।इधर, पुलिस ने शनिवार की शाम हत्या व साक्ष्य मिटाने की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। देर शाम पिता ने बेटी की शिनाख्त करने का हलफनामा इंस्पेक्टर जहानाबाद को दिया है। इस मामले में दो दिन से पूछताछ के लिए हिरासत में लिए गए युवक को पुलिस ने शुक्रवार की रात जाने दिया। बता दें कि जहानाबाद क्षेत्र की रहने वाली एक युवती दो जून को घर से गई थी और वापस नहीं लौटी थी। उसके पिता ने तीन जून को गुमशुदगी दर्ज कराई थी। 15 जून को एक युवती की शव ललौली थाना क्षेत्र के कोर्रा कनक गांव के सामने बोरहा नाले में मिला था। 17 जून को पोस्टमार्टम हाउस में जहानाबाद से पहुंचे पिता व भाई ने शव की शिनाख्त की और इसके बाद शव का पोस्टमार्टम हुआ। लड़की की गला दबाकर हत्या करने की पुष्टि की गई थी। पुलिस ने इस गुमशुदगी को हत्या व साक्ष्य मिटाने के मुकदमे में बदलने के लिए पिता से बेटी की शिनाख्त का हलफनामा मांगा था। इधर, शनिवार की देर शाम पिता ने पुलिस को हलफनामा दिया। इंस्पेक्टर जहानाबाद राकेश पांडेय ने हलफनामा मिलने पर गुमशुदगी को हत्या व साक्ष्य मिटाने के मुकदमे में तरमीम किया है। उधर, मामले की छानबीन में जुटी क्राइम ब्रांच की टीम मथुरा पहुंच गई। जहां सर्विलांस की लोकेशन पर जहानाबाद की गायब युवती पुलिस को जिंदा मिल गई। यह देखकर पुलिस के होश उड़ गए। पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि दो दिन पहले ही प्रेमी के साथ शादी रचा ली है। पुलिस मथुरा से युवती को लेकर फतेहपुर के लिए रवाना हुई है। एसपी सतपाल अंतिल ने बताया कि गलत पहचान करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। गलत पहचान करने के पीछे प्रथम दृष्टया किसी को फसाने का मकसद सामने आ रहा है। पूछताछ में मामला स्पष्ट हो जाएगा।

पुलिस को पहले से ही संदिग्ध लग रही थी शिनाख्त

शिनाख्त के दौरान ही पुलिस को यह मामला संदिग्ध लग रहा था। जिसके कारण पुलिस ने इस मामले में शिनाख्त करने आये पिता से हलफनामा मांगा और खून के सैंपल भी लिए। इस पर दबाव भी बनाए रखा। इसके कारण बात चर्चा में रही। आमतौर पर ऐसे मामलों में पुलिस हलफनामा नहीं लेती है। लेकिन इस मामले में हलफनामा लेने के बाद ही मुकदमा दर्ज हुआ। इंस्पेक्टर जहानाबाद राकेश पांडेय ने बताया कि शव की शिनाख्त उसके पिता द्वारा की गई थी। यही बात लिखा-पढ़ी में ली गई है।