FATEHPUR- विचाराधीन भूमि में अधिकारियों के साजिशन में दबंग प्रधान ने रातों रात किया कब्जा

विचाराधीन भूमि में अधिकारियों के साजिशन में दबंग प्रधान ने रातों रात किया कब्जा

खागा (फतेहपुर) तहसील क्षेत्र के पाई गांव निवासी कुसमा देवी पत्नी रवि करण सिंह ने चकबंदी प्रक्रिया एवं सिविल वाद के विचारण काल में प्रशासनिक आदेश उप जिला अधिकारी खागा व तहसीलदार खागा को घोर उल्लंघन करते हुए दबंग्ग प्रधान/ चकबंदी प्रधान एवं पाई निवासी राम जी रामजीत व लंगर पुत्र गण स्व 0 रज्जन तथा श्रीरज्जी द्वारा साजिश के तहत विवादित भूमि पर मकान निर्मित करके पक्की छत डालने के संबंध में उप जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देते हुए प्रशासनिक आदेशों के अनुपालन में जानबूझकर विफल रहने व साजिशन प्रार्थिनी का भूमि संख्या 411 ,0.5180 हे 0 भूमि पर जबरन अवैध कब्जा करके निर्माण करने व उस पर पक्की छत डालने के अभियोग में इलाकाई थाना में एफ आई आर दर्ज करा कर जेल भिजवाने व विवादित मकान तत्काल सीन करने की मांग किया।
इन्होंने शिकायती पत्र में कहा है कि भूमि संख्या 411 क्षेत्रफल 1580 हेक्टेयर भूमि खागा तहसील के पाई गांव में स्थित है जिसकी भूमि से मिली भूमि नंबर 407 है पुत्र दुलारे की है अब रंजन के वारिस पुत्र गण रामजी रामजीत व लंगर तथा विधवा पत्नी श्रीमती रज्जी की है। जिसका अब कब्जा वह दखल है। रज्जन उपरोक्त अपने जीवन में चकबंदी लेखपाल उपेंद्र कथा कानूनगो राकेश कुमार यह साजिश है रागिनी की भूमि उपरोक्त गाटा संख्या 411 क्षेत्रफल 0.1 यमन 80 हेक्टेयर में प्रार्थिनी के परिवार सहित अनुपस्थिति में अवैध कब जा करके निर्माण करने लगा जिसकी खबर पाते ही रानी ने आकर रंजन के विरुद्ध स्थाई निषेधाज्ञा का वाद संख्या 94 सन 2019 ईस्वी कुसमा देवी बनाम रंजन आदि सिविल जज जूनियर डिविजन खागा फतेहपुर में स्थित किया है जो विचाराधीन है जिसके सम्मान जानबूझकर ना लेकर न्यायालय में उपस्थित नहीं मैं का मुख्य बारिश गाना आगे और मौके प्रार्थिनी की भूमि में अवैध निर्माण करने का प्रयास करने पर दिनांक 2/4/ 2019 को प्राथमिक के पति द्वारा शिकायतें प्रार्थना पत्र दिया गया। जिसमें चकबंदी अधिकारी तत्काल आवश्यक कार्यवाही करने व आख्या देने का आदेश हुआ। जिसका अनुपालन तत्काल न होने पर प्रार्थिनी ने मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश राज्य सरकार को भी प्रेषित किया ।तथा समाचार पत्रों में भी प्रकाशित करवाया । उपरोक्त अवैध निर्माण हेतु ग्राम प्रधान पाई द्वारा दी गई कॉलोनी का निर्माण प्रार्थिनी की उक्त भूमि पर जबरन बनाई जा रही है। जिसकी उपजिला अधिकारी खागा व चकबंदी अधिकारी के आदेश अनुपालन में चकबंदी लेखपाल व कानूनगो ने गलत तौर पर बताया कि उक्त भूमि नंबर 411 आपकी नहीं है। नक्शे में सड़क दर्ज है जबकि सड़कों का नंबर 413 है। उपरोक्त चकबंदी कर्मियों द्वारा प्राथमिकी उक्त भूमि पर प्राथमिकी ना होना तथा उस पर पत्नी का कब्जा दखल ना होने एवं पैमाइश ना करने की धमकी देने के परिणाम स्वरूप प्रार्थनीय ने पैमाइश कराने हेतु व कब्जा पाने की प्रार्थना पत्र सभी आवश्यक अभिलेख संलग्न करके चकबंदी अधिकारी खागा को दिया है भ्रष्ट चकबंदी कर्मियों द्वारा कोई अनुपालन ना करने पर चकबंदी अधिकारी का भ्रष्टाचार में संलिप्तता के कारण प्रमाण अंतरण कर दिया गया है अब कोई आपत्ति शेष नहीं रह गई परंतु मौके पर प्रार्थिनी की उक्त भूमि पर ग्राम रंजन द्वारा अर्ध निर्मित मका नियत पर पुनः चकबंदी वह ग्राम प्रधान सुरेश कुमावत मौर्य मृतक रज्जन के पुत्र राम जी रामजीत लंगर तथा विधवा रज्जी की साजिश से संगठित होकर अवैध निर्माण मौके पर करने लगे तब पुनः प्राप्त करने में एक प्रार्थना पत्र शिकायती उपजिलाधिकारी तहसीलदार खागा को दिनांक 23:12 2020 को दिया जिस पर तत्काल मौके पर जाकर अवैध निर्माण रुकवाने व पक्षों के अभिलेखों का परीक्षण करके आख्या देने का आदेश चकबंदी अधिकारी पुलिस खागा को पारित किया। जिसे हाथों-हाथ रागिनी अपने पति द्वारा क्षेत्रीय थाना पुलिस खागा के पास भिजवाया पुलिस ने तत्काल निर्माण रुकवा दिया परंतु रातों-रात उस पर पुलिस की साजिश से सुरेश कुमार मौर्य तथा राम जी लंगर रामजीत विधवा रज्जी सभी प्रशासनिक आदेशों का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन किया है तथा दिखावटी अनुपालन किया है जिस से प्रार्थना का सबसे नुकसान व विधिक अधिकारों का उल्लंघन है जिसके लिए सूत्रधार अभियुक्त उपर्युक्त गण के विरूद्ध थाने में प्राथमिकी अंकित करके अभियोग में जेल भेजा जाना आवश्यक है।