You are currently viewing FATEHPUR- प्रशासन की उदासीनता के चलते पांच बजे के बाद भी गुलजार रहती शराब की दुकानें

प्रशासन की उदासीनता के चलते पांच बजे के बाद भी गुलजार रहती शराब की दुकानें

मिलावटी शराब की बिक्री व ओवर रेटिंग का खेल जोरों पर

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह

फतेहपुर (ब्यूरो)– जनपद में जिला अधिकारी द्वारा बनाए गए शराब बिक्री के नियम पूरी तरीके से फेल होते हुए दिखाई दे रहा और प्रशासन की उदासीनता के चलते शाम 5:00 बजे के बाद भी शराब की दुकानें गुलजार नजर आती हैं और धड़ल्ले से शाम 5:00 बजे के बाद भी शराब की बिक्री महंगे रेटों पर की जाती है ।
खागा तहसील क्षेत्र के अंतर्गत कहीं शराब की दुकान के संचालकों द्वारा जिला अधिकारी के बनाए गए नियमों पर ताक में रखकर शाम 5:00 बजे के बाद दुकान खोलकर धड़ल्ले से बिक्री की जा रही है वही ज्ञात हो कि खागा तहसील क्षेत्र के करीब 1 दर्जन से अधिक शराब की दुकानों पर 5:00 बजे के बाद दुकान को बंद कर इधर उधर से महंगे रेटों पर शराब की बिक्री की जा रही है तो वही कुछ जगहों में खुलेआम ₹80 में बिकने वाला पव्वा ₹90 से लगाकर ₹100 तक बेचा जा रहा है और शराब माफियाओं द्वारा कुछ कुछ जगहों पर मिलावटी शराब व अवैध हरियाणा युक्त शराब की बिक्री जोर शोर से की जा रही है और प्रशासन मूकदर्शक बना तमाशा देख रहा है या फिर विभाग को फिर से किसी बड़ी घटना का इंतजार है ।
वहीं जानकारी के मुताबिक बता दें कि खागा तहसील क्षेत्र के अंतर्गत धाता, किशनपुर, खखरेरू, जैसे कई थाना क्षेत्र के अंतर्गत शराब के ठेकों पर मिलावटी व हरियाणा युक्त शराब की बिक्री चोरी-छिपे किए जा रही है और ओवर रेटिंग का खेल भी धड़ल्ले से किया जा रहा है₹80 में बिकने वाले पव्वा की बिक्री ₹120 तक में बेची जा रही है और जिला अधिकारी के आदेशों को ठेंगा दिखाते हुए यह दुकानें सुबह होते ही खून दी जाती हैं फिर ओवर रेटिंग का खेल कर यह दुकानें 5:00 बजे के बाद भी आधी रात तक गुलजार रहती है पर सड़क किनारे इन दुकानों के पास जमा पियक्कड़ों की फौज को देखकर भी प्रशासन चुप्पी साध लेता है और जहां तक यह भी नहीं पता करता तो कि इन पियक्कड़ों को आधी रात को शराब कहां से मिलती है या फिर यह कहें कि यह सब सिस्टम का खेल है जिसके दम पर आधी रात तक शराब की दुकानें गुलजार रहती हैं ।